रचनाकार में बहुत कुछ है. कुछ कीवर्ड से अपने काम की सामग्री खोजें

Custom Search

शनिवार, 5 जून 2010

हरीश नारंग की कविता – वृक्ष की पुकार

clip_image002[4]

पर्यावरण दिवस पर प्रस्तुत है हरीश नारंग की एक कविता - वृक्ष की पुकार - यह कविता पर्यावरण मंत्रालय द्वारा प्रथम पुरुस्कार से सम्मानित है.

clip_image002

वृक्ष की पुकार

मैं सदा ही

निःस्वार्थ अर्पण करता रहा

अपना सर्वस्व तुम्हें

और ----

 

पल पल बिखेरता रहा हरियाली

तुम्हारे जीवन की हर पग पर

और ----

 

सँवारता रह इस धरा को

किसी सुहागिन की

मांग की तरह

परन्तु----

 

क्या हो गया है तुम्हें

किस कारण तुले हो

मेरे मूल को ही नष्ट करने पर

मैं तुमसे अपने जीवन की

भीख नहीं मांग रहा

मैं तो दुहाई दे रहा हूं

तुम्हारी आने वाली पीढ़ी की

क्या छोड़ोगे उसके लिए

घुटने के बल चलने को

तपती लू से दहकता आँगन ?

 

अथवा

क्रीड़ास्थल के नाम पर

अथाह रेतीले मैदान ?

अथवा

ऐसी दूषित वायु

जिसमें जीवन का संचार नहीं

संघर्ष की चुनौती हो ?

जब वह पीढ़ी चीख चीख कर

मांगेगी

जीवन का अधिकार

क्या तब

सुन सकोगे

उसकी वह

दर्द भरी चीत्कार ?

 

यदि नहीं ---

तो आज

मेरी यह विनय सुनो

रोक दो इस विनाश को

क्योंकि यह मेरा नहीं

स्वयं तुम्हारा ही

विनाश है ।।।

प्रशंसक

संपर्क सूत्र

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com

डाक का पता:

रचनाकार

रविशंकर श्रीवास्तव

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462020 (भारत)

रचनाकारों के लिए जरूरी सूचना :

कृपया ध्यान दें!
नाका
में पहली बार रचना प्रकाशनार्थ भेज रहे हैं? यहाँ दिए गए नियम अवश्य पढ़ लें. यदि प्रकाशनार्थ कविता / पद्य रचना भेज रहे हैं तो एक साथ न्यूनतम 10 कविताएँ/पद्य रचनाएँ प्रेषित करें, अन्यथा इन्हें सप्ताह/पखवाड़े की कविताओं के अंतर्गत एक-साथ प्रकाशित किया जाएगा.

30,000 से अधिक गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य / 2,000 से अधिक नियमित ग्राहक / प्रतिमाह 200,000(दो लाख) से अधिक पाठक / 8,000 से अधिक हर विधा की रचनाएँ प्रकाशित / आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें

ई-संपर्क - rachanakar@gmail.com

प्रायोजित कड़ियाँ

टेक्नोलॉजी व हास्य-व्यंग्य का अद्भुत संगम:

***

हिन्दी कम्प्यूटिंग के लिए काम की ढेरों कड़ियाँ - यहाँ जाएँ!

के प्रशंसक बनें फ़ेसबुक में

-------------