रचनाकार.ऑर्ग के लाखों पन्नों में सैकड़ों साहित्यकारों के हजारों रचनाओं में से अपनी मनपसंद विधा की रचनाएं ढूंढकर पढ़ें. इसके लिए नीचे दिए गए सर्च बक्से में खोज शब्द भर कर सर्च बटन पर क्लिक करें:
मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें

7 जून 2010

सुकरात मृदुल की कविता

image

दुःख सत्य और सुख भ्रम है

दुःख शक्ति है दुःख साहस है
दुःख रक्त है दुःख सक्त है
दुःख जीवन है दुःख ज्ञान है
दुःख अपनों की पहचान है
दुःख आधार है दुःख विचार है
दुःख है तो ये संसार है
दुःख नव युग का निर्माण है
दुःख आस है दुःख रिवाज़ है
दुःख आन है दुःख शान है
दुःख है तो स्वाभिमान है
दुःख आसूं है दुःख मुस्कान है
दुःख आवाज़ है दुःख अंदाज़ है
दुःख जीवन का एक साज है

दुःख उपदेश है दुःख सन्देश है

दुःख बारिश है दुःख तपिश है

दुःख तलवार है दुःख चमक है

दुःख अवतार है दुःख संसार है

दुःख ख़ामोशी है दुःख भाष है

दुःख एहसास है दुःख सांस है

दुःख सत्य का उछास है
दुःख साथी है दुःख आज़ादी है
जो दुःख को अपना मानते हैं
वह जीवन को जीना जानते हैं
दुःख सत्य है सुख भ्रम है .

सुकरात मृदुल

2 टिप्‍पणियां:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु बेनामी टिप्पणियाँ बंद की गई हैं (आपको पंजीकृत उपयोगकर्ता होना आवश्यक है) तथा साथ ही टिप्पणियों का मॉडरेशन भी न चाहते हुए लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

कॉपीराइट

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

देखने में आया है कि हिंदी की कुछ तथाकथित साहित्यिक वेबसाइटें रचनाकार.ऑर्ग में प्रकाशित मैटर को बिना किसी अनुमति के जस का तस पुनर्प्रकाशित कर रही हैं. यह गलत है व घोर निंदनीय कृत्य है. वेबसाइट संचालकों से अनुरोध है कि कृपया ऐसा न करें. यदि जरूरी हो तो उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक अवश्य दें.

रचनाकार आपको पसंद है? फ़ेसबुक में इसे पसंद कर हमारा मान बढ़ाएँ.

प्रकाशनार्थ रचनाएं आमंत्रित हैं

रचनाकार में प्रकाशनार्थ हर विधा की रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचना rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. रचनाकार के लिए रचना भेजते समय कृपया इस कड़ी में दी गई बातों का ध्यान रखें.

ताज़ा रचनाएँ