रचनाकार में बहुत कुछ है. कुछ कीवर्ड से खोजें -

लोड हो रहा है. . .

सोमवार, 7 जून 2010

सुकरात मृदुल की कविता

image

दुःख सत्य और सुख भ्रम है

दुःख शक्ति है दुःख साहस है
दुःख रक्त है दुःख सक्त है
दुःख जीवन है दुःख ज्ञान है
दुःख अपनों की पहचान है
दुःख आधार है दुःख विचार है
दुःख है तो ये संसार है
दुःख नव युग का निर्माण है
दुःख आस है दुःख रिवाज़ है
दुःख आन है दुःख शान है
दुःख है तो स्वाभिमान है
दुःख आसूं है दुःख मुस्कान है
दुःख आवाज़ है दुःख अंदाज़ है
दुःख जीवन का एक साज है

दुःख उपदेश है दुःख सन्देश है

दुःख बारिश है दुःख तपिश है

दुःख तलवार है दुःख चमक है

दुःख अवतार है दुःख संसार है

दुःख ख़ामोशी है दुःख भाष है

दुःख एहसास है दुःख सांस है

दुःख सत्य का उछास है
दुःख साथी है दुःख आज़ादी है
जो दुःख को अपना मानते हैं
वह जीवन को जीना जानते हैं
दुःख सत्य है सुख भ्रम है .

सुकरात मृदुल

2 टिप्‍पणियां:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु बेनामी टिप्पणियाँ बंद की गई हैं (आपको पंजीकृत उपयोगकर्ता होना आवश्यक है) तथा साथ ही टिप्पणियों का मॉडरेशन भी न चाहते हुए लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

संपर्क सूत्र

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com

डाक का पता:

रचनाकार

रविशंकर श्रीवास्तव

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462020 (भारत)