आलेख || कविता ||  कहानी ||  हास्य-व्यंग्य ||  लघुकथा || संस्मरण ||   बाल कथा || उपन्यास || 10,000+ उत्कृष्ट रचनाएँ. 1,000+ लेखक. प्रकाशनार्थ रचनाओं का  rachanakar@gmail.com पर स्वागत है

पुरुषोत्तम विश्वकर्मा का व्यंग्य - कंकालों के कारनामें

चाचा दिल्लगी दास आज जब मिले, तो काफी खौफजदा थे। मेरी तसल्ली भरी बातों से उनके होशोहवास जरा ठिकाने आए, तो बोले कि भतीजे, आजकल मैं डरा-डरा -सा महसूस कर रहा हूं। मुझे सोते-जागते, उठते-बैठते अपने चारों ओर कंकाल ही कंकाल नजर आते है। और मैं दावे के साथ कह नहीं सकता कि ये नरकंकाल किसके हैं, क्योंकि कंकालों की कोई पहचान नहीं होती। ये कंकाल निठारी के भी हो सकते हैं, तो आंध्रप्रदेश के किसानों या असम के हिंदी-भाषियों के भी हो सकते हैं। कंकाल चाहे जिनके भी हों, मुझे ये ही नजर आते हैं। अब इसका क्योंकि इलाज कि टेलिविजन के पर्दे पर चाहे कोई भी प्रोग्राम आ रहा हो, मुझे कंकाल नजर आते है।

अखबार में चाहे किसी खबर के साथ जिस किसी का भी फोटो छपा हो, मुझे कंकाल नजर आते है। फुटपाथ से लेकर प्रधानमंत्री की कुर्सी तक सिर्फ और सिर्फ कंकाल नजर आते है। चाचा जरा रुक कर बोले कि भतीजे, ये कंकाल बहुत ताकतवर होते हैं। ये न पुलिस के डण्डे् से, न अण्डरवर्ल्ड के भाइयों की धौंस से, न न्यायालय के कानून-कायदों से घबराते, न लफ्फाज नेताओं के भाषणों से विचलित होते हैं ये तो बस ये हैं, जो भी दिल में ठान लेते है, उसे अंजाम देकर ही दम लेते हैं। मैं इसलिए इन कंकालों से डर रहा हूं। और अकेला मैं ही क्याद, इनसे तो बड़े-ब तीसमारखां तक डर कर थर-थर कांप रहे हैं। अभी इन्होंने जो कोर्ट में कर दिखाया, उसे देखते हुए तो लग यूं रहा हैं मानो वादी से लेकर पुलिस, वकील, जज और जल्लाद तक सब ये कंकाल खुद ही हैं।

इन्होंने न्याय मांगा नहीं, बल्कि न्याय कैसे पाया जाता हैं,एक प्रयोग कर दिखाया हैं। और जो न्याय के लिए अदालत का मुंह नहीं ताकते, उनसे खतरनाक इस दुनिया में कोई नहीं हो सकता। बस यही सोच -सोच मैं इन कंकालों से डर रहा हूं। चाचा ने अपना तपसरा मुसलसल जारी रखते हुए कहा कि भतीजे, तुम मेरी बात को इतना सहज ही मत लेना, बल्कि इसकी गंभीरता को जरा अपने जेहन पर जोर डाल कर समझना। ये कंकाल वाकई बङे खतरनाक साबित होंगे। अभी तो ये सिर्फ मिले ही हैं कि कइयों की वर्दियां छिन गई, कईयों की कुर्सी की चूलें हिल गईं, जब ये अपनी जुबान खोलेंगे, तब देखना इनकी करामात कि ये कंकाल अपने जाल में किस-किस को गिरफ्तार करते हैं।

जो भी फिलहाल इनके प्रति अपनी सहानुभूति जताते हुए लम्बे-चौड़े भाषण दें रहे हैं, ये कंकाल उनकी बोलती बंद कर देंगे। चाचा जाते-जाते कह गए कि मैं तो नाहक ही डर रहा हूं। डरना तो उनको चाहिए जो कि इन कंकालों की कहानी से संबद्ध हैं और डरना उनको भी चाहिए, जिन पर कंकालों की गाज गिरने वाली हैं और यकीनन उनको पल-पल ये कंकाल ही नजर आ रहे होंगे, कभी अपने जब से राजफाश करते, तो कभी गर्दन की तरफ पंजे फैलाकर दबोचने को लपकते।

पुरुषोत्तम विश्‍वकर्मा

pvishvkarma@gmail.com

टिप्पणियाँ

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.