-------------------

आलेख || कविता ||  कहानी ||  हास्य-व्यंग्य ||  लघुकथा || संस्मरण ||   बाल कथा || उपन्यास || 10,000+ उत्कृष्ट रचनाएँ. 1,000+ लेखक. प्रकाशनार्थ रचनाओं का  rachanakar@gmail.com पर स्वागत है

कान्ति प्रकाश त्यागी की कविता : पत्नी पीड़ित पार्टी

पत्नी पीड़ित पार्टी

डा० कान्ति प्रकाश त्यागी

पत्नी पीड़ित पुरुषों ने पार्टी बनाई
चुनाव आयोग से पंजीकृत कराई
पार्टी नाम रखा, पत्नी पीड़ित पार्टी
संक्षिप्त में नाम हुआ, पी पी पी

चुनाव चिन्ह रखा चकला बेलन
शीघ्र बुलाया पत्नी पीड़ित सम्मेलन
२३ जून को स्थापना दिवस मनायेंगे
अधिक से अधिक सदस्य बनायेंगे

हमारी बीबियों ने किया ब़वन्डर
पिला दिया गमों का समन्दर
जो लोग अपनी बीबी से परेशान
उनका हुआ अब रास्ता आसान

ये झूठा इल्ज़ाम लगाती हैं
घर पर खाना बनवाती हैं
झाड़ू पोंछा लगवाती हैं
बच्चों को खिलवाती हैं

कुछ कहने पर गुर्राती हैं
घर में आग लगाती हैं
सास ससुर को फ़ंसाती हैं
उनको स्वयं ज़ेल कराती हैं

पत्नी ले रहीं झूठे तलाक
शर्म दी है खूंटी पर टांग
इधर पड़ती बीबी की डांट
उधर पड़ती बास की डांट

दोनों उड़ा रहे हैं खूब ढाट
अपनी उल्टी रहती है खाट
दोनों में है कोई सांठ गांठ
अपनी बज़ा रहे हैं वाट

बापू से जा करी गुहार
हम पर हो रहा अत्याचार
चारों ओर है हा हा कार
गूंगी बन गई यह सरकार

नहीं चलेगी नहीं चलेगी
यह सरकार नहीं चलेगी
बापू आप कुछ काम करो
हमारे लिये कल्याण करो

साबरमती के संत, तूने किया था कमाल
दे दी हमें आज़ादी, बिना खड़ग बिना ढाल
मोनी बाबा, ऎसा ही कुछ कर दो कमाल
पत्नी पीड़ा से हो रहा हमारा बुरा हाल

देश में नया कानून बनाओ
पत्नियों के ज़ुल्मों से बचाओ
एक तिहाई सीट सुरक्षित कराओ
हमारा अस्तित्व बचाओ

पी पी  पार्टी में प्रवेश पाओ
पत्नी कष्टों से मुक्ति पाओ

-----.

Dr.K.P.Tyagi
Prof.& HOD. Mech.Engg.Dept.
Krishna institute of Engineering and Technology
13 KM. Stone, Ghaziabad-Meerut Road, 201206, Ghaziabad, UP

टिप्पणियाँ

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.