रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

अनुज नरवाल रोहतकी की पंचायतों को समर्पित गीत : ये इश्‍क आजाद है

rose गुलाब इश्क प्रेम

गीता, कुरान, हर मजहब का ज्ञान

पहले पढ़ ले ये सारा जहान

फिर बताए कहा लिखा है

इश्‍क पर किसी गांव,गोत्र की पाबंदी है

ये इश्‍क तो दो दिलों की रजाबंदी है

तुम समझो बात मेरी, तुम मानो बात मेरी

ये इश्‍क आजाद है,ये इश्‍क आजाद है

 

बचपन में तुमने ही सिखाया है

सब अपने हैं यहां न कोई पराया है

जब उमर हुई इश्‍क करने की

क्‍यूं फिर हम पे पहरा लगाया है

प्‍यार भी तो तुमने ही सिखाया है

अ इश्‍क से नफरत करने वालों

नफरत से किसका घर हुआ आबाद है

ये इश्‍क.........आजाद है

 

मारना छोड़ दो मुहब्‍बत वालों को

मारना है तो मारो नफरत वालों को

मारो दहेज लेने वालों को

इन रिश्‍वत खाने वालों को

इन चोर, गुंडे, दलालों को

मारो गर्भ में बेटी मारने वालों को

मारो गर्भ में बेटी.............................

पंचायत ये काम भी कर सकती हैं

और अपना नाम भी कर सकती हैं

मैं नहीं कहता हूं ये तो

हर नौजवां की आवाज है

ये इश्‍क .............आजाद है

 

गांव की गांव में शादी क्‍यूं नहीं हो सकती

एक ही गोत्र में शादी क्‍यूं नहीं हो सकती

हमको आप ही समझाइए

हमको बताइए बताइए

पर्दे के पीछे क्‍या-क्‍या होता है

आप सब समझते हैं

गांव की गांव में क्‍या क्‍या होता है

हमने तो यहां तक देखा है

देख कर दुख बहुत होता है

बाप-बेटी का बलात्‌कार कर देता है

ससुर, बहु की आबरू तार-तार कर देता है

आदमी इंसानियत को शर्मसार कर देता है

पंचायत मेरे सवाल का जवाब दे

मैं गलत हूं तो मुझे समाज निकाल दे

ऐसे कितनों को मारा गया है

ऐसे कितनों को उखाड़ा गया है

तुम्‍हारी खामोशी तुम्‍हारा जवाब है

ये इश्‍क ..............आजाद है

 

इनसे से तो लाख अच्‍छे हैं

आपके ये जो बच्‍चे हैं

मुहब्‍बत करके शादी करते हैं

आपकी टेंशन आधी करते हैं

इश्‍क वालों से ही जहां आबाद है

ये इश्‍क............ आजाद है

----

- डॉ.अनुज नरवाल रोहतकी

09215270518

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget