शुक्रवार, 30 जुलाई 2010

शोभा गुप्ता के हास्य व्यंग्य दोहे

image
जिम्मेदार कौन ?

नेता ने जनता से बोला ये रोना-धोना छोड़

बात पुरानी बोझ बन गई उसको ढोना छोड़

बाढ़ प्रभावित क्षेत्र हैं कारण कहा हाथ को जोड़

तू मंहगाई का कोई ठीकरा मेरे सिर मत फोड़ ॥ १॥


अनाज सड़े गोदाम से बाहर किसको सुध है भाई

नाम,पता गोदाम का लेकर ट्रक में शराब है आई

अब सरकारी गोदामों में अवैध माल संभलेगा

राशन की दूकान पर लिखा "चीनी नहीं है आई"॥ २॥


धरती छोटी बड़ी आबादी,प्रजनन की आजादी

कंक्रीट के जंगल देखो और खेतों की बर्बादी

दूध,अनाज,फल जहर मिले हैं मरने की आजादी

दोष नहीं यह सरकारी है व्यवसायिक आजादी ॥ ३॥


फैशन के इस दौर में नकली अब सामान मिलेगा

अजी पैसे भी तब देने होंगे जब सामान मिलेगा

बाजारवाद की महिमा को तब तुम भी समझोगे

तेरे ही घर की बाजारों में अमेरिका,जापान मिलेगा ॥ ४॥


आतंकवाद है एक खिलौना मिलकर सब खेलेंगे

दद्दा ने ही हुक्म दिया है इसे अब की हम झेलेंगे

विकासवाद की इस थ्योरी को भारत जब पढ़ लेगा

जब दद्दा का आदेश मिलेगा तब और लोग खेलेंगे॥ ५॥


शोभा गुप्ता
जनकपुरी,नई दिल्ली
३० जुलाई २०१०   

3 blogger-facebook:

  1. अच्छी अभिव्यक्ति है ---पर शोभाजी ये दोहे नहीं हैं, मुक्तक हैं।
    ---दोहा दो पंक्तियों का छंद है-१३-११; १३-११ मात्राओं का। यथा...

    रहिमन याचकता गहे, बडे छोट है जात ।
    नारायण को हू भयो, बाबन आंगुर गात ॥

    उत्तर देंहटाएं
  2. डॉ. श्याम गुप्त जी,
    दरअसल भूल मुझसे हुई है - शीर्षक देने में.
    क्षमा चाहूंगा.

    उत्तर देंहटाएं
  3. अति सुन्दर मुक्तकों के लिए बधाई स्वीकारें।

    सद्भावी -डॉ० डंडा लखनवी

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------