रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

विजय कुमार वर्मा की हास्य कविता : बाकी सब ठीक है

बाकी सब ठीक है

hasparihas हास्य कविता hasya kavita
महंगाई बहुत है ,वे भी करते तसदीक है,

और हम क्या कहें बाकी सब ठीक है.


-दिन-दिन वसन उतर रहा तन से,ना यह लन्दन

ना पेरिस ना ग्रीस है, बाकी सब ठीक है.

 

लाशों पे हँस-हँस के सियासत कर लेते हैं, कहते--

यहाँ की जनसंख्या अधिक है, बाकी सब ठीक है.

 

जो जितना दूर जनता से, सत्ता के उतना करीब है

और हम क्या कहे,बाकी सब ठीक है.

 

'हिन्दुस्तानी' सिर्फ परदे पे , नहीं तो ठाकुर, ,यादव

हरिजन, ब्राम्हण, बनिक है, बाकी सब ठीक है.

 

एक ओर नेता , एक ओर अफसर, जनता फुटबॉल

सब मारत फ्री-किक है, बाकी सब ठीक है.

---

विजय कुमार वर्मा डी एम डी -३१/बी,बोकारो थर्मल

vijayvermavijay560@gmail.com

रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

बढ़िया व्यंग...और क्या कहें, बाकी सब ठीक है.

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget