विजय कुमार वर्मा की हास्य कविता : बाकी सब ठीक है

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

बाकी सब ठीक है

hasparihas हास्य कविता hasya kavita
महंगाई बहुत है ,वे भी करते तसदीक है,

और हम क्या कहें बाकी सब ठीक है.


-दिन-दिन वसन उतर रहा तन से,ना यह लन्दन

ना पेरिस ना ग्रीस है, बाकी सब ठीक है.

 

लाशों पे हँस-हँस के सियासत कर लेते हैं, कहते--

यहाँ की जनसंख्या अधिक है, बाकी सब ठीक है.

 

जो जितना दूर जनता से, सत्ता के उतना करीब है

और हम क्या कहे,बाकी सब ठीक है.

 

'हिन्दुस्तानी' सिर्फ परदे पे , नहीं तो ठाकुर, ,यादव

हरिजन, ब्राम्हण, बनिक है, बाकी सब ठीक है.

 

एक ओर नेता , एक ओर अफसर, जनता फुटबॉल

सब मारत फ्री-किक है, बाकी सब ठीक है.

---

विजय कुमार वर्मा डी एम डी -३१/बी,बोकारो थर्मल

vijayvermavijay560@gmail.com

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

1 टिप्पणी "विजय कुमार वर्मा की हास्य कविता : बाकी सब ठीक है"

  1. बढ़िया व्यंग...और क्या कहें, बाकी सब ठीक है.

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.