शुक्रवार, 30 जुलाई 2010

सुनील संवेदी की कविता : बड़ी हो गई बिटिया

Image042 (Mobile)

उन्हें-

पड़ोस की वह

छोटी सी बिटिया बहुत अच्छी लगती थी।


वह उसे-

बिटिया ही कहते थे

सुंदर, लाडली, मासूम बिटिया।


और बिटिया-

‘बिटियों’ के साथ ’बिटिया’ नहीं,

’बड़े’ के साथ ’बड़ा’ बन जाना चाहती थी।


बड़े सपने, बड़ी बातें, बड़ा सोचना,

बड़ा सुनना, बड़ा सुनाना, बड़ा देखना

बड़ा दिखना, बड़ी कहानी, बड़े गीत

बड़ा राजा, बड़ी रानी

हां... एक छोटी सी राजकुमारी बस्स...

’बड़े’ का तो मुंह ही

’बड़ा’ कर देती थी।


बड़े खड़े होते तो-

कमर के आस-पास के कद को

पंजों पर उचकाती,

देखो न, मैं बड़ी हो गई हूं।


और बड़े-

उसे, अपने शांत आलिंगन में समेटकर

बस्स, चूमते ही चले जाते।


या कि, तुम गोद में बैठी रहो,

न, मैं तो न बैठती

अब बड़ी हो गई हूं, देखो।


अपनी झालरदार फ्रॉक पकड़ती

और, झूमने लगती,

बड़े, एकटक निहारते रहते।

बिटिया कभी-कभी

छोटी सी बात भी कह देती,

आप, मेरे पापा से अच्छे हैं,

आप, मेरे पापा होते

मेरे पास रहते

मुझे प्यार करते।


कि, बड़े सकपका जाते

बड़ी-बड़ी बातें सिखाने लगते।

मम्मी कहती-

बिटिया, अधिक न जाया करो वहां।

कि, ऊं हू मम्मी

आप और पापा का घर आफिस

और मेरा!

मम्मी सकपका जाती।


एक रात-

एक अंधेरे कोने में दुबकी

सिसक रही थी,

उसकी झालरदार फ्राक,

और चड्डी, मुंह में ठुंसी

मना रही थी मातम

लाज न बचा पाने का।


बड़ी-बड़ी आंखें, बड़ी-बड़ी

बिटिया वाकई बड़ी हो गई।

और बड़े-

लापता हो गए थे।

----

 

द सुनील संवेदी

उपसंपादक, हिंदी दैनिक जनमोर्चा

54, सिविल लाइंस, बरेली,यूपी

email-

bhaisamvedi@gmail.com

suneelsamvedi@rediffmail.com

1 blogger-facebook:

  1. uf ant itna kadaa likh diya ki ki komal-si ek kavita padhte hue sataak se ek koda dilo-dimaag par aa lagaa jaise.....jhajhor diya ....mujhe is kavita ke ant ne........

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------