आलेख || कविता ||  कहानी ||  हास्य-व्यंग्य ||  लघुकथा || संस्मरण ||   बाल कथा || उपन्यास || 10,000+ उत्कृष्ट रचनाएँ. 1,000+ लेखक. प्रकाशनार्थ रचनाओं का  rachanakar@gmail.com पर स्वागत है

यश मालवीय का गीत : इक दफा अवचेतन में कोई…

इक दफा अवचेतन में कोई

हौले हल्के से आया था

अब सबकुछ उसका अपना है

ये चेतन भी अवचेतन भी

 

इक दफा एक खुशबू के
झोंके ने सहसा पथ रोका था

इक बहुत हठीले बादल ने

यूँ सूरज का रथ रोका था

 

इस दफा गगन पर मानस के

कोई तरुवर सा छाया था

अब सबकुछ उसका अपना है

हठ भी, सर्वस्व समर्पण भी

 

इक दफा नाव ने लहरों से

कुछ पाठ पढ़ा था सूने में

निःशब्द किसी की स्वरलहरी

थी हरसिंगार के चूने में

 

इक दफा चांदनी में कोई

नीला टुकड़ा गहराया था

अब सबकुछ उसका अपना है

ये जीवन भी, वो जीवन भी

 

हर आहट पे आहट देता

इक गीत संवरने को ही था

छाया से धूप बतियाता-सा

इक धूप का दरपन टोही था

 

वो मोही था, निर्मोही था

घर आंगन में लहराया था

अब सबकुछ उसका अपना है

सौगंधें, टूटा-सा प्रण भी

 

इक दफा रात ढलते-ढलते

रुक गया अकेला तारा था

तारे में झिलमिल करता-सा

कोई अपना मन हारा था

 

इक दफा राग भैरवी

सुबह के संशय ने भी गाया था

अब सबकुछ उसका अपना है

ये क्यारी भी, वो उपवन भी

----

(साभार – नवनीत, मई 2010)

टिप्पणियाँ

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.