यश मालवीय का गीत : इक दफा अवचेतन में कोई…

इक दफा अवचेतन में कोई

हौले हल्के से आया था

अब सबकुछ उसका अपना है

ये चेतन भी अवचेतन भी

 

इक दफा एक खुशबू के
झोंके ने सहसा पथ रोका था

इक बहुत हठीले बादल ने

यूँ सूरज का रथ रोका था

 

इस दफा गगन पर मानस के

कोई तरुवर सा छाया था

अब सबकुछ उसका अपना है

हठ भी, सर्वस्व समर्पण भी

 

इक दफा नाव ने लहरों से

कुछ पाठ पढ़ा था सूने में

निःशब्द किसी की स्वरलहरी

थी हरसिंगार के चूने में

 

इक दफा चांदनी में कोई

नीला टुकड़ा गहराया था

अब सबकुछ उसका अपना है

ये जीवन भी, वो जीवन भी

 

हर आहट पे आहट देता

इक गीत संवरने को ही था

छाया से धूप बतियाता-सा

इक धूप का दरपन टोही था

 

वो मोही था, निर्मोही था

घर आंगन में लहराया था

अब सबकुछ उसका अपना है

सौगंधें, टूटा-सा प्रण भी

 

इक दफा रात ढलते-ढलते

रुक गया अकेला तारा था

तारे में झिलमिल करता-सा

कोई अपना मन हारा था

 

इक दफा राग भैरवी

सुबह के संशय ने भी गाया था

अब सबकुछ उसका अपना है

ये क्यारी भी, वो उपवन भी

----

(साभार – नवनीत, मई 2010)

-----------

-----------

0 टिप्पणी "यश मालवीय का गीत : इक दफा अवचेतन में कोई…"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.