राकेश मालवीय की कविता

image

हे धृतराष्‍ट्र

क्‍या धृतराष्‍ट्र होना ही तुम्‍हारी नियति है।

या कभी

खोलोगे भी आंखें

सच तो यही है राजन

कि बेहद जरूरी है अब

आंखों पर चढ़ी पट्‌टी हटाना

जान लो यह सच्‍चाई

कि अब संजय पर नहीं कर सकते विश्वास

मान लो अब

कि सदियों से तुम्‍हारे अंधियारे ने

कितने‘-कितने महाभारत खड़े किए

कितने-कितने योद्धा मारे गए

कितनी-कितनी विधवा मां और वधुएं

अब तक कर रही हैं प्रलाप

पर तुम हो कि अब भी

बने हुए हो

धृतराष्‍ट्र के धृतराष्‍ट्र।

--------

सोच रहे थे कि

अपने-आप खुल जाएंगी हथकड़ियां

पहरेदार सो जाएंगे

और जमुना जल से पार होते हुए

तुम पहुंच जाओगे उस पार

सुरक्षित हाथों में

पर

कितनी रातें गुजर गईं

नहीं खुल पा रही हथकड़ियां

चटक नहीं रहे ताले

अजीब इत्‍तेफाक है कि

खुफिया नेत्रों के भय से

से नहीं रहे हैं पहरेदार

कारागार में बंद है तारणहार

और

पार्श्व में गूंज रहा है

एक भयानक अट्‌टहास।

 

--

Rakesh Malviya
Journalist
Coordinator-Media Initiative
Vikas Samvad.
Bhopal.
09977958934.0755-4252789
www.patiyebaji.blogspot.com

---

(चित्र – सुमन एस खरे की कलाकृति)

टिप्पणियाँ

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.