रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

सुकरात मृदुल की कविता - दुःख सत्य और सुख भ्रम है

Photo349 (Mobile)

दुःख सत्य और सुख भ्रम है

  दुःख शक्ति है दुःख साहस है
   दुःख रक्त है  दुःख सक्त है
  दुःख जीवन है दुःख ज्ञान है
  दुःख अपनों की पहचान है 
दुःख आधार है दुःख विचार है
दुःख है तो ये संसार है
दुःख नव युग का निर्माण है
दुःख आस है दुःख रिवाज़ है
दुःख आन है दुःख शान है
दुःख है तो स्वाभिमान है
दुःख आसूं है दुःख मुस्कान है
दुःख आवाज़ है दुःख अंदाज़ है
दुःख जीवन का एक साज है

दुःख उपदेश है दुःख सन्देश है

दुःख बारिश है दुःख तपिश है

दुःख तलवार है दुःख  चमक है

दुःख अवतार है दुःख संसार है

दुःख ख़ामोशी है दुःख भाष है

दुःख एहसास है दुःख सांस है

दुःख सत्य का उछास है  
दुःख साथी है दुःख आज़ादी है
जो दुःख को अपना मानते हैं
वह जीवन को जीना जानते हैं
दुःख सत्य है सुख भ्रम है .

---

सुकरात मृदुल

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

जो दुःख को अपना मानते हैं
वह जीवन को जीना जानते हैं
wahhhhhhhhhhh kya roop ginaye hai aapne dukh ke padhkar dukh ka ahsaas hi jata raha

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget