आलेख || कविता ||  कहानी ||  हास्य-व्यंग्य ||  लघुकथा || संस्मरण ||   बाल कथा || उपन्यास || 10,000+ उत्कृष्ट रचनाएँ. 1,000+ लेखक. प्रकाशनार्थ रचनाओं का  rachanakar@gmail.com पर स्वागत है

हरीश नारंग की हास्य कविता – दफ़्तर पुराण

दफ़्तर पुराण

हरीश नारंग harish narang

इकतारा बोले तुन तुन

क्या कहे ये तुमसे सुन सुन

बात है सच्ची, मतलब साफ़

लगे बुरी तो करना माफ़,

फिर उसके ----तक धुन धुन धुन

कुछ ऐसे बाबू होते हैं

जो दफ़्तर आ कर सोते हैं

सारा दिन मौज मनाते हैं

फिर ओवरटाईम को रोते हैं

जब बिल न उनका पास हुआ

तब मूड का सत्यानाश हुआ

फिर उसके ----तक धुन धुन धुन

दो रूपी अफ़सर होते हैं

कभी सख्त तो कभी नरम होते

कभी सबसे हंस के बात करें

कभी बात बात पे गरम होते

इनको तो हुआ जिस से भी गिला

बस सबको उसको मीमो मिला

फिर उसके ----तक धुन धुन धुन

कुछ ऐसे भी हैं चपड़ासी

जो आफ़त हैं अच्छी खासी

कभी कोई न कहे कुछ काम इन्हें

बस करने दो आराम इन्हें

भूले से अगर कोई कह दे काम

इनको लगते रोग तमाम

फिर उसके ----तक धुन धुन धुन

 

दफ़्तर में अकसर महिलायें

सारा दिन इत-उत बतियायें

इसकी उसकी सब सुनती हैं

चुपचाप स्वेटर बुनती हैं

आवें जो लेट न टोको इन्हें

जावें जल्दी मत रोको इन्हें

फिर उसके ----तक धुन धुन धुन

इकतारा बोले तुन तुन

क्या कहे ये तुमसे सुन सुन

बात है सच्ची, मतलब साफ़

लगे बुरी तो करना माफ़,

फिर उसके ----तक धुन धुन धुन

----

हरीश नारँग

१५, , अरावली अपार्ट्मेंट्स

अलकनन्दा,

नई दिल्ली – ११००१९

टिप्पणियाँ

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.