गुरुवार, 8 जुलाई 2010

रामनिवास ‘मानव' की कविताएँ

image

आदमी और पहाड़

थोड़ी-सी ठंड क्‍या पड़ी,

सिहर उठा आदमी।

लेकिन

पहाड़ की छाती तो देखो,

हजारों वषोंर् से ओढ़े लेटा है

बर्फ़ की मोटी चादर,

लेकिन कभी

उफ़ तक नहीं करता।

 

रिश्‍तों के धागे

सुलझाता रहता है जंगल

नदी-नालों रूपी

रिश्‍तों के धागे,

लेकिन आकाश लांघकर

पहाड़ों की सीढ़ियां

पल-भर में

बढ़ जाता है आगे।

 

जंगल में सूर्यास्‍त

बहुत नीचे उड़ रहा था

कोई सुनहला सारस।

ऊंचे-ऊंचे वृक्षों की

सघन टहनियों में फंस गया,

और देखते-ही-देखते

हरियाली के सागर में

दूर कहीं धंस गया।

 

टिमटिमाती रोशनी

कहीं दूर,

सुनसान अंधेरी घाटियों में

जल रही हैं कुछ ढिबरियां

या चस-बुझ रही हैं लालटेनें।

किसी गहन अंधकूप में

टिमटिमा रहे हों

जैसे कुछ जुगनू।

लगता है, जैसे

रात में धरती पर

उतर आया है आकाश

सितारों सहित,

और लेटा है पहाड़ पर

पहनकर काला-मटमैला

जंगल का लिबास।

 

दयारा बुग्‍याल

बिछाकर दूधिया चादर

निकाल रही है उसमें

स्‍वयं प्रकृति

रंग-बिरंगी, सुन्‍दर,

मनमोहक फुलकारी।

लेकिन इस महंगी

मखमली चादर को

खरीदेगा कौन !

यहां सभी तो हैं मौन।

 

कत्‍यूरी घाटी

कत्‍यूरी घाटी

समाये आगोश में

एक भरी-पूरी सभ्‍यता,

सबल संस्‍कृति

और जीवन्‍त परिपाटी।

व्‍यक्‍ति और प्रकृति,

दोनों मिलकर

जहां बनते हैं एक,

यही है, यही है

वह सुन्‍दरता की टेक।

---

डॉ0 रामनिवास मानव', डी0लिट्‌

706, सैक्‍टर-13, हिसार-125005 (हरि0)

---

चित्र – सुमन एस खरे की कलाकृति

4 blogger-facebook:

  1. डॉ रामनिवास ‘मानव' की कविताएं पढ़ने का अवसर प्रदान करने के लिए आपका बहुत बहुत आभार !
    मुक्तछंद के नाम पर लेखकीय हिमाक़तें इतनी प्रचुरता से होने लगी हैं कि कविता से सर्वत्र ऊब होने लगी । …लेकिन डॉक्टर 'मानव' की रचनाएं मुझ जैसे छंद के पक्षधर को भी पसंद आईं । अर्थात वाकई श्रेष्ठ कविताएं हैं ।
    आदरणीय रविरतलामीजी , आप निरंतर श्रेष्ठ सकारात्मकता के लिए सक्रिय रहते हैं , आपके कार्य का मूल्यांकन असंभव है ।
    मैं आपकी लगन और श्रम साधना को प्रणाम करता हूं ।
    - राजेन्द्र स्वर्णकार
    swarnkarrajendra@gmail.com
    शस्वरं

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक से बढ़ कर एक...............

    वाह !

    उत्तर देंहटाएं
  3. I have no words to praise. really very nice praiseworthy poems. heart felt congratulations. special thanks to raviratlamiji for providing us such gems out of jeweleers stores. harendra

    उत्तर देंहटाएं
  4. "पहाड़ की छाती तो देखो,

    हजारों वषोंर् से ओढ़े लेटा है

    बर्फ़ की मोटी चादर,

    लेकिन कभी

    उफ़ तक नहीं करता।"-----
    -----क्या पहाड और मनुष्य में अन्तर नहीं है ? यह तुलना ही हास्यास्पद है।
    ---इसी प्रकार सभी कवितायें निरर्थक एवं तात्विक तथ्यार्थ दोष से युक्त हैं, सिर्फ़ कविता लिखने के लिये लिखना??

    ----मुक्त छंद कविता भी एक सशक्त विधा है, गुणी-ग्यानी जन छंदों में विभेद नहीं करते।

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------