महेन्द्र वर्मा की ग़ज़ल

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

ग़ज़ल

कोई शख्‍़स ग़म से घिरा लग रहा था,

हुआ जख्‍़म उसका हरा लग रहा था।


मेरे दोस्‍त ने की है तारीफ मेरी,

किसी को मगर ये बुरा लग रहा था।


ये चाहा कि इंसा बनूं मैं तभी से,

सभी की नज़र से गिरा लग रहा था।


लगाया किसी ने गले खु़शदिली से,

छिपाता बगल में छुरा लग रहा था।


मैं आया हूं अहसान तेरा चुकाने,

ये जिसने कहा सिरफिरा लग रहा था।


जो होने लगे हादसे रोज इतने,

सुना है ख़ुदा भी डरा लग रहा था।


‘ग़र इंसाफ तुमको दिखा हो बताओ,

वे जीता हुआ या मरा लग रहा था।

---

- महेन्‍द्र वर्मा

व्‍याख्‍याता, डाइट, बेमेतरा

जिला दुर्ग ,छ.ग.,491335

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

4 टिप्पणियाँ "महेन्द्र वर्मा की ग़ज़ल"

  1. अति उत्तम। अति उत्तम। लगे रहिए....... भाई जी।
    सफलता आपके चरण चूमने वाली है।
    सद्भावी -डॉ० डंडा लखनवी

    उत्तर देंहटाएं
  2. ग़ज़ल बहुत अच्छी बन पडी है
    सभी शेर मन को छू लेने में कामयाब हैं
    लेकिन ये शेर मुझे ख़ास तौर पर पसंद आया......

    ये चाहा कि इंसा बनूं मैं तभी से,
    सभी की नज़र से गिरा लग रहा था।



    मुबारकबाद .

    उत्तर देंहटाएं
  3. मेरे दोस्त ने की तारीफ़ मेरी,किसी को मगर ये बुरा लग रहा था।

    बहुत अच्छी ग़ज़ल , बहुत अच्छी लाइन।

    उत्तर देंहटाएं
  4. मेरे दोस्त ने की है तारीफ़ मेरी, किसी को मगर ये बुरा लग रहा था।

    बहरे मुतकारिद मुसम्मन सालिम (122 122 122 122)में अच्छी गज़ल।

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.