शनिवार, 21 अगस्त 2010

सुनील संवेदी का गीत - जिंदगी क्यों उदास रहती है!

image

गीतः जिंदगी क्यों उदास रहती है!

जिंदगी क्यों उदास रहती है

तू कभी दूर-दूर रहती है

तो कभी आसपास रहती है।

जिंदगी क्यों उदास रहती है।

 

पत्थरों के जिगर को क्या देखें

ये भी चुपचाप कहा करते हैं,

यूं पड़े हैं पड़ी हो लाश कोई

ये भी कुछ दर्द सहा करते हैं

बेकरारी है ख्वाहिशें भी हैं

उनसे मिलने की प्यास रहती है।

जिंदगी क्यों उदास रहती है।

 

चंद रंगीनियों से बांधा है

ज्यों मदारी का ये पुलिंदा हो,

आसमानों की खूब बात करे

बंद पिंजरे का ज्यों परिंदा हो,

हो मजारों पे गुलाबी खुशबू,

बात हो आम, खास रहती है।

जिंदगी क्यों उदास रहती है।

 

क्यों सितारों में भटकती आंखें

क्यों जिगर ख्वाहिशों में जीता है,

क्यों जुंवा रूठ-रूठ जाती है

क्यों बशर आंसुओं को पीता है,

क्यों नजर डूब-डूब जाती है

फिर भी क्यों एक आस रहती है।

जिंदगी क्यों उदास रहती है।

 

रात भर रोशनी में रहता हूं,

अब तलक रौशनी नहीं देखी,

चांद निकला है ठीक है यारों,

पर अभी चांदनी नहीं देखी,

और क्या देखने को बाकी है

जिंद में जिंदा लाश रहती है।

जिंदगी क्यों उदास रहती है।

 

-----.

सुनील संवेदी

उपसंपादक, हिंदी दैनिक ‘जनमोर्चा’ बरेली,यूपी

email-

bhaisamvedi@gmail.com

suneelsamvedi@redifmail.com

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------