शनिवार, 14 अगस्त 2010

डंडा लखनवी की देश भक्ति रचना

जय हो, जय  हो, मंगलमय  हो, जय महापर्व पन्द्रह अगस्त।
                                              जय महापर्व पन्द्रह अगस्त॥


घर - घर   में   बजी  बधाई   थी,
आजादी   जिस   दिन  आई थी,
पुरखों   ने   जिसकी  प्राणों   से-
कीमत   समपूर्ण     चुकाई   थी,
उस स्वतंत्रता की रक्षाहित नित, रहना होगा  सजग-व्यस्त।
जय हो, जय हो, मंगलमय हो, जय  महापर्व पन्द्रह अगस्त॥


आजादी    के     उपहार      मिले,
मनचाहे       कारोबार         मिले,
खुल   गए   गुलामी    के    बंधन-
जन-जन को सब अधिकार मिले
कर्तव्य किए बिन याद रहे ! अधिकार स्वत:  होते  निरस्त॥
जय हो, जय हो, मंगलमय हो, जय महापर्व पन्द्रह अगस्त॥


हम     हिन्दू   सिख   ईसाई   हैं,
मुस्लिम   हैं    बौध्द - बहाई   हैं,
बहुपंथी    भारत     वासी     हम-
आपस    में       भाई  -  भाई   हैं


सारे  अवरोध  हटा कर हम, खुद अपना  पथ करते  प्रशस्त॥
जय हो, जय हो, मंगलमय हो, जय  महापर्व पन्द्रह अगस्त॥


(आजादी की स्वर्ण-जयंती 15 अगस्त, 1997  को डी-डी-1 से संगीतबध्द रूप में प्रस्तुत रचना)

---

डॉ० डंडा लखनवी

3 blogger-facebook:

  1. बहुत सुन्दर, स्वतन्त्रता दिवस की शुभकामना!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत अच्छी लगी ये रचना

    बधाई.
    जय हिंद.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर गीत| स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाये|

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------