शरद जायसवाल की कविता – सुपुर्द-ए-खाक

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

clip_image002

सुपुर्द-ए-खाक

जब करना

मुझे

ताकीद कर देना !

दिल

मैं साफ कर लूंगा

बहा के

अश्क आंखों से !!

 

(2)

थाम के

हाथ में पत्थर

चला वो सामना करने !

ये

आदिम -युग नहीं यारों

यहां

बंदूक चलती है!

---

 

-शरद जायसवाल कटनी म.प्र. इंडिया

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

4 टिप्पणियाँ "शरद जायसवाल की कविता – सुपुर्द-ए-खाक"

  1. सुपुर्द-ए-ख़ाक...कर देना..
    खूब अंदाज़ है.आप तो लिजेंड हो गए हैं ब्लॉग jagat के.

    पढ़ें वरिष्ठ पत्रकार-लेखक गिरीश पंकज को : बाज़ार में मीडिया
    http://hamzabaan.blogspot.com/2010/08/blog-post.html

    उत्तर देंहटाएं
  2. दोनो ही अनमोल हैं………………क्या भाव संजोये हैं……………एक बहुत ही गहरी बात कह दी………………दोनो रचनाये दिल मे उतर गयीं।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेनामी1:11 am

    दोनों अच्छी लघु कवितायें

    उत्तर देंहटाएं
  4. छोटी कविताओं में एक युग की फ़िलासफ़ी। बधाई

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.