गुरुवार, 12 अगस्त 2010

विजय वर्मा के हाईकु – बाढ़ में बरसात

(जापानी कविता शैली – त्रिपदम का उच्चारण हाइकु है या हाईकु? अभिव्यक्ति व अनुभूति पर दोनों ही प्रचलित हैं. विकिपीडिया पर मूल जापानी स्वर से हाईकु का आभास होता है. तो चलिए, हाईकु ही प्रयोग में लाते हैं. )

दी में बाढ़

जिंदगी हलकान

मुश्किल घड़ी.

 

डूबे मकान

बर्बाद खलिहान'

ये कैसी घड़ी?

 

रातभर थी

ठिठुरती गईया

जल में खड़ी.

 

आसमान से

गिरेगा खाना, आँखें

ऊपर गड़ी.

 

अभी तो. रुकी

डर है होगी शुरू,

फिर से झड़ी.

 

जिस नाव  पे

हम चढ़े,उस पे

नागिन चढ़ी.  

---

विजय कुमार वर्मा डी एम् डी -३१/बी,बोकारो  थर्मल

---

5 blogger-facebook:

  1. वाह बहुत ही सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  2. जिस नाव पे
    हम चढ़े,उस पे
    नागिन चढ़ी.

    ..यह हाईकु एक अलग अर्थ रोमांचित कर देता है. मंजिल की तरफ जब हम कदम बढ़ाते हैं तो अक्सर आस्तीन के सांप हमें डस लेते हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बाढ की विभिषका से लबरेज़ ये कविता अपने संयोजन के दम से
    हल्का हास्य बोध भी करा रही है । वर्मा जी को बहुत बहुत बधाई।

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------