शनिवार, 25 सितंबर 2010

राजीव श्रीवास्तव की हास्य - व्यंग्य कविता - उदघाटन से पहले टूटा पुल

उदघाटन से पहले टूटा पुल

clip_image001

लाखों का निकला टेंडर और जेबें हो गयी फुल

उद्घाटन से पहले देखो टूट गया था पुल

 

जनता के मेहनत की कमाई इस पुल मैं हुई बर्बाद

पर किसी के घर बन गये कोई हुआ आबाद

 

पुल से नदी पार करने का सपना मन मैं थे संजोए

सोच रहे थे उनके ख़ुशियों को किन के लग गई हाए

 

नहीं पता इन्हें कि क्या टूटे पुल की कहानी

घटिया सा सामान लगाया खूब करी मनमानी

 

पुल से ज़्यादा इनको चिंता कमीशन की सताई

सोच रहे थे ज़्यादा से ज़्यादा इससे करो कमाई

 

बना के तैयार कर दी इन्होंने जिंदा लास

पैसे देकर आकाओ से पुल कराया पास

 

सजी खूब महफ़िल थी उस दिन हाउस हुआ था फुल

नेता जी फीता काटे उससे पहले टूटा पुल

 

सभी के सपने ऐसे टूटे जैसे टूटे कॉच

नेता जी कह के चल दिए की कराव जाँच

 

जनता को दे जाँच का लोलीपाप मामला किया था गुल

देशद्रोही फिर मिल बैठे बनाने को नया पुल

 

सोच रहा राजीव की उपर वाले ने किया अहसान

जो पुल टूटता बाद मैं तो जाती कितनी जान

---

डॉक्टर राजीव श्रीवास्तव

मेडिकल कॉलेज हल्दवानी

© copyright reserved by author

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.