शनिवार, 25 सितंबर 2010

राजीव श्रीवास्तव की हास्य कविता – सब कुर्सी का खेल

सब कुर्सी का खेल

clip_image001

बड़ी कुर्सी पे बैठ के मानस मचा रहा धमाल

नहीं जनता के ये सब तो बस कुर्सी का कमाल

 

लोग आगे पीछे घूमे जी-जी का राग अलापे

सर -जी के पसंद हैं क्या ये पहले से भांपे

 

कोई लेकर बैग घूमता कोई छतरी ताने

सोसायटी में रोब जमता कि साहब हम को जाने

 

लगा -लगा माखन सेर भर पीछे -पीछे भागे

जो सर जी का काम पड़े तो रात-रात भर जागे

 

घर का सारा काम करे ये सब्जी भी लाए

जो सर जी की मैडम कह दे वो काम है भाए

 

बचो को स्कूल छोड़ मैडम को कराए "शॉपिंग"

अपने घर वालों को भूल कर सर से करे है "सेटिंग"

 

सिर जी की तारीफ उन्हीं के मूह पे है करते

सिर जी भी गर्व से हर बात पे हामी भरते

 

सोच -सोच कर खूब इतराते देख के लंबी फौज

सोचा जब से मिले है कुर्सी हो गए है मौज

 

अपने घर पे दावत देकर साम करेंगे रोशन

हर तरह से खुस करेंगे पाने को परमोसन

 

एक ज़रा से बात पर किसी के समझ ना आई

तेरे कोई वक्त नहीं ये कुर्सी का खेल है भाई

 

जिस दिन कुर्सी पे बैठेगा दूजा कोई ऑफीसर

नहीं कोई तेरी बात करेगा नहीं कहेगा सर-सर

 

तेरे सामने ही तेरे चमचे होंगे बेगाने

हर किसी को बोलेंगे के हम इन्हें ना जाने

 

सोच रहा "राजीव दुनिया का है कैसा खेल

कुर्सी के "वॅल्यू" देख कर लोग बढ़ाए मेल

---

rajeev shrivastava

डॉक्टर राजीव श्रीवास्तव

मेडिकल कॉलेज हल्दवानी

© copyright reserved by author

2 blogger-facebook:

  1. bilkul sahi kaha

    sab kursi ka hi khel hai janab

    http://sanjaykuamr.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  2. बिलकुल सही पहचाना है अच्छा और करारा है

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------