शनिवार, 18 सितंबर 2010

राजीव श्रीवास्तव की कविता : तू क्यों चली गई माँ

 

clip_image001

सूरज की पहली किरण से जैसे फूल खिलते है

तुम्हारा मर्म स्पर्श मुझे भी जागता था माँ

ओस की बूंदें जैसे पत्तों पर इतराती है

मैं भी तुम्हारे गोद मैं अठखेलियां करता था माँ

बादल जैसे सूरज को ढंक के देता है छांव

तुम्हारा आँचल भी मुझे सुकून दिलाता था माँ

बारिश की बूंदें जैसे प्यासी धरती की प्यास बुझाती है

तुम्हारी आँखों को देख मैं भी तर जाता था माँ

दूर बजती बांसुरी को सुन जैसे मूर नाचता है

तुम्हारी मधुर वाणी सुन ,मैं खिल उठता था माँ

सागर की लहरे जैसे सीप को किनारी पर लाती है

तुम्हारी उंगली पकड़ मैं भी मंज़िल पा जाता था माँ

पहाड़ जैसे पहरेदारी करते है सरहदों की

तेरे पीछे छुप मैं निश्चिंत हो जाता था माँ

तेरे बिना जी ना सकूँगा ये जानती थी ना

फिर मुझे अकेला छोड़ ---क्यों चली गई माँ

अब दिन पतझर जैसा लगता है ,और रात अमावस

तेरे बिन होली बेरंग और दीवाली अंधेरी है माँ

यदि नदी रूपी जीवन मैं हम किस्ती मैं सवार है

तो तू ही मांझी है तू ही पतवार है माँ

हे ईश्वर तू मेरा सब कुछ छीन ले

दे सके तो बस दे-दे मेरी माँ

--

rajeev shrivastava (Mobile)

डॉक्टर राजीव श्रीवास्तव

मेरा परिचय

मैं पेशे से डॉक्टर हू और लगभग १४ सालों से मेडिकल कॉलेज मैं काम कर रहा हू. मुझे लिखने का शोक है .मैंने अब तक तीन पुस्तकें चिकित्सा से संबंधित लिखी है और मेरा एक नॉवेल भी छापने वाला है ,मैंने कई कविताएं लिखी है कई कविताएं पत्रिकाओं मैं प्रकाशित हो चुकी हैं ,मेरी ज्यादातर कविताएं हमारे आस-पास हो रही घटनाओं पर आधारित हैं ,मैं अपनी कविताओं के माध्यम से एक सरल भाषा में कुछ ज़रूरी विषयों पर लोगों की आंखें खोलना कहता ह़ूं और कोशिश करूँगा की हर कविता से कोई ना कोई संदेश दे सकू.

नाम-डॉक्टर राजीव श्रीवास्तव

पिता का नाम-श्री कैलाश नारायण श्रीवास्तव

उम्र- ४० साल

पेशा-डॉक्टर

पता- टाइप ४ क-५ मेडिकल कॉलेज कॅंपस

रामपुर रोड हल्द्वनि-नेनीताल

6 blogger-facebook:

  1. काफी गहरी संवेदनायें हैं.........

    उत्तर देंहटाएं
  2. bhavpoorna rachna ......bhavnaao ko ukerne me aap safal rahe......shubhakaamnaaye

    उत्तर देंहटाएं
  3. सचमुच माँ के बिना जीवन का हर रंग बेरंग और हर उजाला घोर अँधेरा ही लगता
    है...... बहत ही खूबसूरत रचना लिखी है आपने.......

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही मर्मस्पर्शी रचना ...पढ़कर भावुक हो गया मैं...

    उत्तर देंहटाएं
  5. मां के प्रति दिल की गहराईयों से कविता के माद्ध्यम से 'अक़ीदत" बिरले लोग ही पेश कर पाते हैं । रचनाकार को मुबारकबाद्।

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------