शनिवार, 2 अक्तूबर 2010

एस के पाण्डेय की कविता – गांधी का रामराज्य

gandhi (Custom)

गाँधीजी का रामराज्य

(१)

सत्य-धर्म का राज्य जहाँ

वह रामराज्य भारत में आये ।

अमन-चैन हो सुख-समृद्धि

हर कोने में खुशियाँ छाये ।।

 

भूँखा न हो प्यासा कोई

सबको अपना अधिकार मिले ।

शुभ न्याय मिले ऐसा सबको

अपराधी व अपराध जले ।।

 

(२)

सत्य-अहिंसा, अमन-चैन हित

नैतिकता बहुत जरूरी है ।

धर्म बंधन के बिना सत्य से

बढ़ती जाती दूरी है ।।

 

गाँधीजी का कहना था

धार्मिक-रुझान जरूरी है ।

मानस-गीता का पाठ करो

अच्छी न इनसे दूरी है ।।

 

(३)

भारत का जन-जन गाँधीजी को

महात्मा गाँधी कहता है ।

उनके सत्य-अहिंसा का

डंका पीटा करता है ।

लेकिन यह कहना झूठ नहीं

उन्हें मानस ने संत बनाया था ।

 

उनके तीन बंदरों को भी

इसने ही ज्ञान सिखाया था ।।

जन-जन से हर भारतवासी से

प्रेम का पाठ लखाया था ।

रामराज्य का सपना भी गाँधी के मन-मस्तिक में

पावन मानस से आया था ।।

 

(४)

देश-समाज की स्थिति दिन-दिन

और बिगड़ती जाती है ।

शीलहरण, हिंसा, लूट-डकैती

रोज सुनने में आती है ।

 

शुरू से अपने बच्चों को

जो मानस पाठ पढाएं हम ।

अपने आप बहुत सीमा तक

समस्याएँ हो जाएँ कम ।।

 

स्कूलों और कालेजों में

जो मानस भी पढ़ी जायेगी ।

जन-जन से प्रेम, बड़ों को मान, सत्य-अहिंसा की शिक्षा से

क्या ‘निरपेक्ष’ छवी मिट जायेगी ?

-----

एस के पाण्डेय,

समशापुर (उ. प्र.) ।

URL: http://sites.google.com/site/skpvinyavali/

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

और दिलचस्प, मनोरंजक रचनाएँ पढ़ें-

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------