सोमवार, 11 अक्तूबर 2010

विजुअल कन्वर्सेशन – अपर्णा अनिल, अर्पिता रेड्डी, मधु शुक्ला, प्रवीण खरे तथा प्रीति संयुक्ता की कला प्रदर्शनी

विजुअल कन्वर्सेशन शीर्षक लिए हुए, कला यात्रा के अंतर्गत, पांच विभिन्न शहरों में पांच महिला कलाकारों -अपर्णा अनिल, अर्पिता रेड्डी, मधु शुक्ला, प्रवीण खरे तथा प्रीति संयुक्ता की कलाकृतियों की प्रदर्शनी का पहला पड़ाव भारत भवन भोपाल था. कलाप्रेमियों के बीच यह प्रदर्शनी अच्छी खासी चर्चित और बेहद सफल रही. देखें कलाकारों की कलाकृतियों की एक झलक -

aparna anil

अपर्णा अनिल

aparna anil ki kala

अपर्णा अनिल की कलाकृति

arpita reddy

अर्पिता रेड्डी

arpita reddy ki kala

अर्पिता रेड्डी की कलाकृति

madhu shukla

मधु शुक्ला

madhu shukla ki kala

मधु शुक्ला की कलाकृति

praveen khare

प्रवीण खरे

praveen khare ki kala

प्रवीण खरे की कलाकृति

priti samyukta

प्रीति संयुक्ता

priti samyukta ki kala 

प्रीति संयुक्ता की कलाकृति

भोपाल कलायात्रा का समापन 10 अक्तूबर को हुआ.

अगले पड़ाव क्रमशः हैं-

इंदौर - 20-23 नवंबर 2010 – प्रीतम लाल दुआ आर्ट गैलरी

नागपुर – 4-6 दिसम्बर 2010 – एसआईएसएफए आर्ट गैलरी

ग्वालियर – दिसम्बर 2010 – तानसेन कला वीथिका

जयपुर – 10-12 फरवरी 2011 - जवाहर कला केंद्र

1 blogger-facebook:

  1. बेहद उम्दा कलाकृतियाँ…………सभी को बधाई।

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------