एस. के. पाण्डेय की बाल कविता – लालची बिल्ली

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

cat

(१)

बिल्ली होती है होशियार ।

चूहों को खाती है मार ।।

दांव लगाके करे शिकार ।

माने न जल्दी ये हार ।।

(२)

चोरी-चोरी उडाये माल ।

बच्चों का भी नहीं खयाल ।।

लालच होता बड़ा बिकार ।

फंस जाते इसमें होशियार ।।

(३)

लोटे में था थोडा क्षीर ।

देख के आया मुंह में नीर ।।

फ़ौरन डाला अपना मुख ।

सुख के बदले पाया दुःख ।।

(४)

कांपी उसकी सकल शरीर ।

मुँख खीचे तो आये पीर ।।

जंह-तंह पटके आये चोट ।

ब्याकुल बिल्ली जाती लोट ।।

(५)

नटखट बच्चे शोर मचाएं ।

हो-हो करके खुशी मनाएं ।।

गन्दी आदत में यह आये ।

जो करता गन्दा कहलाये ।।

(६)

बिल्ली भागे राह न पाए ।

करती क्या जब नहीं दिखाए ।।

नहीं बचेगी इसकी जान ।

ऐसा तब मन में अनुमान ।।

(७)

कम्बल लेकर दो जन आये ।

बिल्ली ऊपर तुरत बहाए ।।

फिर पकड़ा उसको तत्काल ।

अरु लोटे को लिया निकाल ।।

(८)

बिल्ली भागी हुयी निहाल ।

टल गया सिरपे आया काल ।।

लालच का कुछ ऐसा जाल।

फंसते निर्धन मालामाल ।।

अंत में होता है उर साल ।

बुरी बला मत इसको पाल ।।

------

एस. के. पाण्डेय

समशापुर (उ. प्र.) ।

URL: http://sites.google.com/site/skpvinyavali/

*********

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

2 टिप्पणियाँ "एस. के. पाण्डेय की बाल कविता – लालची बिल्ली"

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.