मंगलवार, 19 अक्तूबर 2010

एकता नाहर की ग़ज़ल

ekta nahar

****गजल****

ना बुराई के अँधेरों से डरा कीजिये,

मन को सदा रोशन रखा कीजिये !!

 

कभी न बन सकेगा सूरज रात का मेहमां,

बगावत न दीपों की लौ से किया कीजिये !!

 

मिल जायेंगे हर चेहरे में छिपे दशानन,

यूँ खुले आम न चेहरों से अनावरण किया कीजिये !!

 

हो जाये किसी गरीब के घर तक भी उजाला,

दिए इस तरह घर में जला कर रखा कीजिये !!

 

होना चाहते हो अगर मर्यादा पुरुषोत्तम राम,

तो न उसूलों के परिंदे को कभी रिहा कीजिये !!

 

फिर आई इसी उमंग के साथ दीवाली,

हर बुराई को अपने दिल से विदा कीजिये !!

----

Ekta Nahar

Email id: EktaNahar5@gmail.com

Profession : Student of B.E. Final year

from BIST college

Writer, Sketcher 

14 blogger-facebook:

  1. अच्छे भाव हैं

    आप में क्षमता है विचार अभिव्यक्ति की.

    ना बुराई के अँधेरों से डरा कीजिये,

    मन को सदा रोशन रखा कीजिये !!

    -विजय तिवारी " किसलय " जबलपुर // हिन्दी साहित्य संगम जबलपुर

    उत्तर देंहटाएं
  2. कभी ना बन सकेगा सूरज रात का मेहमां,
    बग़ावत ना दीपों के लौ से किया कीजिये।

    हो जाये किसी ग़रीब के घर तक भी उजाला,
    दिये घर में इस तरह जला कर रखा कीजिये।
    बेहतरीन पंक्तियां , मुकम्मल कविता, मुबारकबाद।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर खूबसूरती से उकेरे हैं ये रंग.आज के माहौल पर सशक्त प्रहार अच्छा लगा

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत अच्छा लिखती हो। लिखती रहना और छपती रहना। इस एक ही कविता में अनेक कविताओं का भ्रम होता है। सार्थक प्रयास ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. हो जाये किसी गरीब के घर तक भी उजाला,

    दिए इस तरह घर में जला कर रखा कीजिये !!
    right approach

    उत्तर देंहटाएं
  6. naye dour ke spast vicharo ka swagat hai

    उत्तर देंहटाएं
  7. मेरा उत्साह बढाने के लिए आप सबका बहुत बहुत धन्यवाद
    आभार
    एकता नाहर

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर लिखा है आपने ............मनमोहक

    उत्तर देंहटाएं
  9. ...waah...umda ...nayee pidhi ki advut soch...naye aayaam ... taiy karti aapki ye gazal...aanewala waqt me gazal mahfooj hai...aapke ke saath...ess umra me ...ye jajwa...aapki ke amulya vicharo ke liye aapka tahe dil se naman karta hoon...laajawaab...ALL THE BEST FOR UR BRIGHT FUTURE...

    Alok Punj

    उत्तर देंहटाएं
  10. Sundar Ghazal Hai Aapki, Ekta Ji !! Shubh Kaamnaayen !!

    उत्तर देंहटाएं
  11. बेनामी1:59 am

    really gud....


    all the best for ur bright future

    उत्तर देंहटाएं
  12. bahut khub akata ji aapke gajal me dam hai.

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------