विजय वर्मा की दो कविताएँ – सलीब व धोखा

     [१]

सलीब

ना रिश्तों की अहमियत है

ना भावनाओं पे  गौर है,

एक अज़ब की बेकसी है

एक गज़ब का दौर है।

क्या कहूँ, किससे कहूँ

सभी ने तो है यहाँ

अपने ज़ख्मों के सौदा किये.

एक तुम्हीं नहीं हो 'विजय'

दर्द के सलीब पे टंगे हुए,

इस ज़माने ने हजारों

मसीहा हैं पैदा किये .

   [२]

धोखा
क्यूँ  हर शख्श में

अपनत्व ढूंढता हूँ मैं?

क्यूँ हर बेगाने मुझे

अपने से लगते है ,

जबकि यह बस्ती है बेगानों की

बेगानी यह दुनियाँ है .

यह सौहार्द एक छलावा है

यह हंसी एक धोखा है.
--
v k verma,sr.chemist,D.V.C.,btps
vijayvermavijay560@gmail.com

-----------

-----------

4 टिप्पणियाँ "विजय वर्मा की दो कविताएँ – सलीब व धोखा"

  1. दोनों कवितायें बहुत सुन्दर ! आज से समय को विम्बों में कहती हुई !

    उत्तर देंहटाएं
  2. दोनो की दोनो कविताएँ दमदार हैं, विजय जी|

    उत्तर देंहटाएं
  3. aap sabo ko comments ke liye bahoot bahoot dhanyawad.

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.