प्रभुद‌याल‌ श्रीवास्त‌व‌ की बाल कविता - पिकनिक

prabhudayal (Custom)

पिक‌निक‌

लालू, कालू मोहन,सोहन,
चलो वलें अब पिकनिक में|

लीला,शीला,कविता,रोशन,
चलो चलें अब पिकनिक में|

ले जायेंगे आलू बेसन,
चलो चलें अब पिकनिक में|

वहीं तलेंगे भजिये छुन छुन,
चलो चलें अब पिकनिक में|

चलकर् सीखेंगे योगासन,
चलो चलें अब पिकनिक‌ में|

योगासन पर होगा भाषण,
चलो चलें अब पिकनिक में|

प्रिंसिपल होंगे मंचासन,
चलो चलें अब पिकनिक में|

रखना है पूरा अनुशासन,
चलो चलें अब पिकनिक में|

गायेंगे सब बच्चे गायन,
चलो चलें अब पिकनिक में|
लाओ अपने अपने वाहन,
चलो चलें अब पिकनिक में|

मनमोहन मनभावन है दिन,
चलो चलें अब पिकनिक में|    

प्रभुद‌याल‌ श्रीवास्त‌व‌

-----------

-----------

2 टिप्पणियाँ "प्रभुद‌याल‌ श्रीवास्त‌व‌ की बाल कविता - पिकनिक"

  1. बाल कविता बिल्कुल बालकों के मन जैसी निश्चल और सरस है प्रभुदयाल जी| बधाई|

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.