प्रभुद‌याल‌ श्रीवास्त‌व‌ की रचना – तिरंगा लिख

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

तिरंगा लिख
न अच्छा न गंदा लिख
कोई कहानी जिंदा लिख|

 
किस दल को कब कहां दिया
काले धन का चंदा लिख|

 
काले चेहरे नहीं छुपा
सबका गोरख धंधा लिख|


पकड़े गये गुनाहों को
लिख फाँसी का फंदा लिख|

 
अंतस में घुमड़ें बादल
तो कोई बात चुनंदा लिख|

 
राज मुकुट पर बहुत लिखा
अब तो कीट पतंगा लिख|

 
चेहरे ढके मूखोटों से
उनको खुलकर नंगा लिख|

 
अवसरवादी कलमों ने
जो झूठा लिखा पुलंदा लिख|

 
खड़ी द्रोपदी विलख रही
दुर्यॊधन की जंघा लिख|

 
लगी हुई है आग वहां
मत कागज पर दंगा लिख|

 
लाख रहें कौमी झंडे
तू बस एक तिरंगा लिख|

---

प्रभुद‌याल‌ श्रीवास्त‌व‌

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

2 टिप्पणियाँ "प्रभुद‌याल‌ श्रीवास्त‌व‌ की रचना – तिरंगा लिख"

  1. लाख रहें क़ौमी झंडे ,तू बस एक तिरंगा लिख।
    बहुत सुन्दर रचना।

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.