रविवार, 14 नवंबर 2010

प्रभुद‌याल‌ श्रीवास्त‌व‌ की बालदिवस विशेष रचना – शत्रु को मित्र बना लो अरारारारा…

शत्रु को मित्र बनालो

खाने के संग एक टमाटर अरारारारा,
मजा आ गया उसको खाकर अरारारारा।

भोंदू खुश रसगुल्ला पाकर अरारारारा,
तोंदू सोया ओढ़ बिछाकर अरारारारा।

मजा आ गया पिक्चर जाकर अरारारारा
देखा उसने जानी वाकर अरारारारा।

 
लगा भोंकने कुत्ता आकर अरारारारा,
पत्थर मारा एक उठाकर अरारारारा।

 
डरकर भागा पूंछ दबाकर अरारारारा,
फिर गुर्राया वापस आकर अरारारारा।

क्या पायेगा मुझे सताकर अरारारारा,
भोदू बोला यह चिल्लाकर अरारारारा।

 
क्यों पत्थर मारा है कायर अरारारारा,
कुत्ता बोला उसे सुनाकर अरारारारा।

 
एक दूजे को मित्र बनाकर अरारारारा,
मिलकर रहें संग में आकर अरारारारा।

यही नियम मानव अपनाकर अरारारारा,
रहें मित्र को शत्रु बनाकर अरारारारा।

---

6 blogger-facebook:

  1. सुंदर प्रस्तुति अरारारा......:)

    उत्तर देंहटाएं
  2. kya khoob likha hai aap ne arara
    maja aa gaya paad kar arara

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक दूजे को मित्र बनाकर अरारारारा,
    मिलकर रहें संग में आकर अरारारारा।

    यही नियम मानव अपनाकर अरारारारा,
    रहें मित्र को शत्रु बनाकर अरारारारा।
    ..sudar baal rachna..
    ....baal diwas kee haardik shubhkamnayne..

    उत्तर देंहटाएं
  4. अच्छी कविता एक नये फ़्लेवर लिये हुए,बातों में कुछ और बिम्ब होते तथा और कुछ गहराई आ जाये तो ये कविता मंच को लूटने का माद्दा रखती है।

    उत्तर देंहटाएं

  5. दीपोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    कल 14/11/2012 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  6. बेहतरीन कविता अरारारारा,

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------