प्रभुद‌याल‌ श्रीवास्त‌व‌ की बाल कविता – खेल भावना

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------


एक सड़क पर मक्खी मच्छर
बैठ गये शतरंज खेलने,
थे सतर्क बिल्कुल चौकन्ने
एक दूजे के वार झेलने।

 
मक्खी ने जब चला सिपाही
मच्छर ने घोड़ा दौड़ाया,
मक्खी ने चलकर वजीर को
मच्छर का हाथी लुड़काया।

 
मच्छर ने गुस्से के मारे
ऊँट चलाकर हमला बोला,
मक्खी ने मारा वजीर से
ऊँट हो गया बम बम भोला।

 
ऊँट मरा जैसे मच्छर का
वह गुस्से से लाल हो गया
मक्खी बोली यह मच्छर तो
अब जी का जंजाल हो गया
मच्छर ने तलवार उठाकर
मक्खीजी पर वार कर दिया

 
मक्खी ने मच्छर का सीना
चाकू लेकर पार कर दिया
मच्छर और मक्खी दोनोँ का
पल में काम तमाम हो गया,
देख तमाशा रुके मुसाफिर
सारा रास्ता जाम हो गया।

 
खेलो खेल भावना से ही
खेल हमेशा भाई,
खेल खेल में लड़ जाने से
होती नहीं भलाई।

----

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "प्रभुद‌याल‌ श्रीवास्त‌व‌ की बाल कविता – खेल भावना"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.