बुधवार, 24 नवंबर 2010

चर्चित साहित्यिक एवं सांस्कृतिक पत्रिका ‘सरस्वती सुमन’ के लिए रचनाएँ आमंत्रित

देश की चर्चित साहित्यिक एवं सांस्कृतिक त्रैमासिक पत्रिका  ‘सरस्वती सुमन’  का आगामी अंक  ‘मुक्‍तक विशेषांक’  होगा जिसके अतिथि संपादक  होंगे सुपरिचित युवा कवि  जितेन्द्र ‘जौहर’ । उक्‍त विशेषांक हेतु आपके  विविधवर्णी (सामाजिक, राजनीतिक, आध्यात्मिक, धार्मिक, शैक्षिक, देशभक्ति, पर्व-त्योहार, पर्यावरण, श्रृंगार, हास्य-व्यंग्य, आदि अन्यानेक विषयों/ भावों) पर केन्द्रित मुक्‍तक एवं तद्‌विषयक सारगर्भित एवं तथ्यपूर्ण आलेख सादर आमंत्रित हैं।

लेखकों-कवियों के साथ ही, सुधी-शोधी पाठकगण भी ज्ञात / अज्ञात / सुज्ञात लेखकों के चर्चित अथवा भूले-बिसरे मुक्‍तक भेजकर ‘सरस्वती सुमन’ के इस  दस्तावेजी ‘विशेषांक’  में सहभागी बन सकते हैं। प्रेषक का नाम ‘प्रस्तोता’ के रूप में प्रकाशित किया जाएगा। प्रेषक अपना पूरा नाम व पता (फोन नं. सहित) अवश्य लिखें।

प्रेषित सामग्री के साथ फोटो एवं परिचय भी संलग्न करें। समस्त सामग्री डाक द्वारा निम्न पते पर अति शीघ्र भेजें-

जितेन्द्र ‘जौहर’

(अतिथि संपादक  ‘सरस्वती सुमन’)

IR-13/6, रेणुसागर,

सोनभद्र (उ.प्र.) 231218.

मोबा. #          :   +91 9450320472

ईमेल का पता  :  jjauharpoet@gmail.com

यहाँ भी मौजूद :  jitendrajauhar.blogspot.com

1 blogger-facebook:

  1. श्री रवि रतलामी जी,
    धन्यवाद...हुज़ूर, आपकी इस सदाशयता के लिए!
    ............................

    लेखकगण कृपया कृपया ध्यान दें:

    न्यूनतम 10-12 और अधिकतम 20-22 मुक्तक / रुबाइयात या इन पर केन्द्रित कोई शोधपूर्ण आलेख भेजें...सामग्री केवल डाक या कुरियर द्वारा ही भेजें...ईमेल से नहीं।

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

और दिलचस्प, मनोरंजक रचनाएँ पढ़ें-

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------