बुधवार, 3 नवंबर 2010

रामदीन की कविता - ‘‘मजदूर''

चलता है परदेश कमाने हाथ में थैला तान

थैले में कुछ चना, चबेना, आलू और पिसान,

टूटी चप्‍पल, फटा पजामा मन में कुछ अरमान

ढंग की जो मिल जाये मजूरी तो मिल जाये जहान।

 

साहब लोगों की कोठी पर कल फिर उसको जाना है

तवा नहीं है फिर भी उसको तन की भूख मिटाना है,

दो ईटों पर धरे फावड़ा रोटी सेंक रहा है

गीली लकड़ी सूखे आंसू फिर भी सेंक रहा है।

 

धुंआ देखकर कबरा कुत्‍ता पूंछ हिलाता आया

सोचा उसने मिलेगा टुकड़ा, डेरा पास जमाया,

मेहनतकश इंसानों का वह सालन बना रहा है,

टेढ़ी मेढ़ी बटलोई में आलू पका रहा है।

 

होली और दिवाली आकर उसका खून सुखाती है

घर परिवार की देख के हालत खूब रूलाई आती है,

मुन्‍ना टाफी नहीं मांगता, गुड़िया गुमसुम रहती है

साहब लोगों के पिल्‍लों को देख के मन भरमाती है।

 

फट गया कुरता फिर दादा का, अम्‍मा की सलवार

पता नहीं किस बात पे हो गई दोनों में तकरार,

थे अधभरे कनस्‍तर घर में थी ना ऐसी कंगाली

नहीं गयी है मुंह में उसके कल से एक निवाली।

 

लगता गुड़िया की मम्‍मी ने छेड़ी है कोई रार

इसी बात पर हो गई होगी दोनों में तकरार

दो ईटों पर धरे फावड़ा रोटी सेंक रहा है

गीली लकड़ी सूखे आंसू फिर भी सेंक रहा है।

---

 

रामदीन

जे-431, इन्‍द्रलोक कालोनी

कृष्‍णा नगर, कानपुर रोड, लखनऊ।

9 blogger-facebook:

  1. एक ग़रीब के कमियों की दुख भरी व्यक्ति मन को कुरेद रही है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. भाई स‌ाहब कविता बड़ी अच्छी है। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  3. भाई स‌ाहब कविता बड़ी अच्छी है। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत मार्मिक है आज पढी आंसू नहीं रोक पाया जो अब भी छलक रहे है

    उत्तर देंहटाएं
  5. ✍✍✍
    शर्दी की रात
    का अंधकार
    ठंडा आकाश,
    ट्रैक पर नमी,
    रात के अँधेरे
    में नभ अदृष्ट ।
    सर्दी भरी रात
    मौन दिशा ।
    अंधकार से सब
    ओर घिरीं ट्रैक
    किन्तु एक पट्रोलमेंन
    🏃🏃�🏃�
    〰〰〰〰〰
    〰〰〰〰〰
    हाथ मे लेम्प लिए ट्रैक
    की सलामती के लिए
    ठंडी हवा और जाड़े
    के प्रहारों के विरुद्ध।
    चलता है।✍✍✍
    ➰➰➰➰➰
    भारतीय रेलवे का सच्चा
    सिपाही ट्रैकमैन अपने
    मूल अधिकारो सेआज
    भी क्यूँ है, वंचित ।✍

    1, LDC ऑपन 2 ऑल

    2, हार्ड ड्यूटी अलाउंस

    दोनों माँग जायज हो तो
    सभी साथी लाइक करे।।

    उत्तर देंहटाएं
  6. ✍✍✍
    शर्दी की रात
    का अंधकार
    ठंडा आकाश,
    ट्रैक पर नमी,
    रात के अँधेरे
    में नभ अदृष्ट ।
    सर्दी भरी रात
    मौन दिशा ।
    अंधकार से सब
    ओर घिरीं ट्रैक
    किन्तु एक पट्रोलमेंन
    🏃🏃�🏃�
    〰〰〰〰〰
    〰〰〰〰〰
    हाथ मे लेम्प लिए ट्रैक
    की सलामती के लिए
    ठंडी हवा और जाड़े
    के प्रहारों के विरुद्ध।
    चलता है।✍✍✍
    ➰➰➰➰➰
    भारतीय रेलवे का सच्चा
    सिपाही ट्रैकमैन अपने
    मूल अधिकारो सेआज
    भी क्यूँ है, वंचित ।✍

    1, LDC ऑपन 2 ऑल

    2, हार्ड ड्यूटी अलाउंस

    दोनों माँग जायज हो तो
    सभी साथी लाइक करे।।

    सहमत हो तो लाइक करना
    🎆WRTA🎆
    ...................................
    ✍✍✍✍✍✍✍
    ट्रैकमैन की इक छोटी सी
    पीडा को मै बतलाता हूँ।
    आओ सबको इस कडवे
    सच की तस्वीर दिखाता हूँ।।
    ✍✍✍✍✍✍✍
    कुछ साथी ट्रैकमेनो को ऑन ड्यूटी
    गाड़ी में यात्रा करते देखा होगा।
    हाथ में बारी पंजा और तगाड़ी
    सुन रहे थे सवारियों की गाली।
    ⛏⛏⛏⛏⛏⛏⛏
    तब लगा किसी ने मुझको मेरे
    अंदर से धिक्कारा है।👌👌
    लगा किसी ने भारतीय रेलवे
    की रीड़ को थप्पड सा मारा है।।

    तब लगा कि मैने अबतक सच
    में इस नॉकरी में आजतक ऐसा
    दुःख नही देखा।😭😭😭😭
    मैने मेरे साथियो को आजतक
    ऐसा अपमानित होते नही देखा।।
    ⚒⚒⚒⚒⚒⚒⚒
    अचानक वर्दी मिली थी ,
    हम किस्मत के मारों को।

    मैने ऐसा दुखद नजारा
    पहली बार देखा था।
    ✍✍✍✍✍✍✍
    रेलवे के लिए काम करने वालो
    को अपमानित होते देखा था।
    विडम्बना देखिए इन्ही यात्रियों
    की सुरक्षा के खातिर हम दौड़े
    चले जाते है।✍✍✍✍
    आज मगर वो ही जनता
    क्यों हमसे आँख चुराती है।।

    रेल मंत्रालय भी रेलवे की
    रीड से ध्यान हटाये बैठा है।
    देखो रेलवे की दुर्दशा जो व्यक्ति
    करता हो रेलवे ट्रैक की सुरक्षा
    उसकी हो रही है आज दुर्दशा।
    ✍✍✍✍✍✍✍
    कुछ तो ऐसे नियम लाओ
    हमको भी हक दिलवाओ
    सुन लो हम ट्रैक वालो की।
    30% हार्ड ड्यूटी के लिए
    हम रेलवे के लिए दिनरात
    सुरक्षा करने वालो का इतना
    तो हक बनता है।👌👌
    जान झोंकने वालों का भई
    बिभागीय परीक्षाओ में अपना
    भाग्य आजमाने का हक तो
    बनता है।✍✍✍✍✍

    चलो बता दो मेरे मत से
    सहमत कितने साथी हो।

    आपका साथी
    ✍चेतराम मीणा ✍

    उत्तर देंहटाएं
  7. सहमत हो तो लाइक करना
    🎆WRTA🎆
    ...................................
    ✍✍✍✍✍✍✍
    ट्रैकमैन की इक छोटी सी
    पीडा को मै बतलाता हूँ।
    आओ सबको इस कडवे
    सच की तस्वीर दिखाता हूँ।।
    ✍✍✍✍✍✍✍
    कुछ साथी ट्रैकमेनो को ऑन ड्यूटी
    गाड़ी में यात्रा करते देखा होगा।
    हाथ में बारी पंजा और तगाड़ी
    सुन रहे थे सवारियों की गाली।
    ⛏⛏⛏⛏⛏⛏⛏
    तब लगा किसी ने मुझको मेरे
    अंदर से धिक्कारा है।👌👌
    लगा किसी ने भारतीय रेलवे
    की रीड़ को थप्पड सा मारा है।।

    तब लगा कि मैने अबतक सच
    में इस नॉकरी में आजतक ऐसा
    दुःख नही देखा।😭😭😭😭
    मैने मेरे साथियो को आजतक
    ऐसा अपमानित होते नही देखा।।
    ⚒⚒⚒⚒⚒⚒⚒
    अचानक वर्दी मिली थी ,
    हम किस्मत के मारों को।

    मैने ऐसा दुखद नजारा
    पहली बार देखा था।
    ✍✍✍✍✍✍✍
    रेलवे के लिए काम करने वालो
    को अपमानित होते देखा था।
    विडम्बना देखिए इन्ही यात्रियों
    की सुरक्षा के खातिर हम दौड़े
    चले जाते है।✍✍✍✍
    आज मगर वो ही जनता
    क्यों हमसे आँख चुराती है।।

    रेल मंत्रालय भी रेलवे की
    रीड से ध्यान हटाये बैठा है।
    देखो रेलवे की दुर्दशा जो व्यक्ति
    करता हो रेलवे ट्रैक की सुरक्षा
    उसकी हो रही है आज दुर्दशा।
    ✍✍✍✍✍✍✍
    कुछ तो ऐसे नियम लाओ
    हमको भी हक दिलवाओ
    सुन लो हम ट्रैक वालो की।
    30% हार्ड ड्यूटी के लिए
    हम रेलवे के लिए दिनरात
    सुरक्षा करने वालो का इतना
    तो हक बनता है।👌👌
    जान झोंकने वालों का भई
    बिभागीय परीक्षाओ में अपना
    भाग्य आजमाने का हक तो
    बनता है।✍✍✍✍✍

    चलो बता दो मेरे मत से
    सहमत कितने साथी हो।

    आपका साथी
    ✍चेतराम मीणा ✍

    उत्तर देंहटाएं
  8. WRTA ट्रैकमैन का भविष्य
    @@@@@@@@@@

    खुशियां झूमी रेलवे ट्रैक पर
    झूम उठेWRTAके जज़्बात

    हार्ड ड्यूटी के भुगतान से
    मिला खुशियों का बिछौना

    अब उदास न होगा ट्रैकमैन
    के मन का कोई भी कोना

    फूल-कलियों पर ही लेटकर
    गुजरे ट्रैकमैन की हर रात
    इसी महीने से मिल रही है
    रिस्क अलाउंस की सौगात

    खुशियां झूमे रेलवे ट्रैक पर
    ․․․․․․․․․․․․․․․․․․․․․
    महफूज रखे खुदा हमकों
    जालिम स्वार्थी संगठनों से
    हर वक्त हो WRTA पर
    खुशियो की नई बरसात

    जल्द मिल रही है ट्रैकमैन को
    अपनी मेहनत की नई सौगात

    खुशियां झूमे रेलवे ट्रैक पर ․․

    ✍चेतराम जोरवाड़✍

    उत्तर देंहटाएं
  9. WRTA ट्रैकमैन का भविष्य
    @@@@@@@@@@

    खुशियां झूमी रेलवे ट्रैक पर
    झूम उठेWRTAके जज़्बात

    हार्ड ड्यूटी के भुगतान से
    मिला खुशियों का बिछौना

    अब उदास न होगा ट्रैकमैन
    के मन का कोई भी कोना

    फूल-कलियों पर ही लेटकर
    गुजरे ट्रैकमैन की हर रात
    इसी महीने से मिल रही है
    रिस्क अलाउंस की सौगात

    खुशियां झूमे रेलवे ट्रैक पर
    ․․․․․․․․․․․․․․․․․․․․․
    महफूज रखे खुदा हमकों
    जालिम स्वार्थी संगठनों से
    हर वक्त हो WRTA पर
    खुशियो की नई बरसात

    जल्द मिल रही है ट्रैकमैन को
    अपनी मेहनत की नई सौगात

    खुशियां झूमे रेलवे ट्रैक पर ․․

    ✍चेतराम जोरवाड़✍

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------