शुक्रवार, 24 दिसंबर 2010

संजय दानी की ग़ज़ल - तेरे तसव्वुर ने किया पागल मुझे

तेरे तस्व्वुर ने किया पागल मुझे,
कोई दवा भी है नहीं हासिल मुझे।

किरदार मेरा हो चुका दरवेश सा,
अपनी  ग़मों की पहना दे पायल मुझे।

ज़ख्मों की बारिश से बचूं कैसे सनम,
प्यारा है तेरी गलियों का दलदल मुझे।

कश्ती मेरी, लहरों की दीवानी हुई,
मदमस्त साहिल ने किया घायल मुझे ।

तेरी अदाओं ने मुझे मारा है पर,
दुनिया समझती, अपना ही क़ातिल मुझे।

या मेरी तू चारागरी कर ठीक से,
साबूत लौटा दे, या मेरा दिल मुझे ।

झुकना सिखाया वीर पोरष ने मुझे,
दंभी सिकन्दर,ना समझ असफ़ल मुझे।

मन्ज़ूर है तेरी ग़ुलामी बा-अदब,
है जान से प्यारा तेरा जंगल मुझे ।

तू खुदगरज़ सैयाद दानी, इश्क़ में  
तू मत समझना बेवफ़ा बुलबुल मुझे।

7 blogger-facebook:

  1. किरदार मेरा हो चुका दरवेश सा,
    अपनी ग़मों की पहना दे पायल मुझे...

    ग़ज़लों में कोई सानी नहीं आपका।

    .

    उत्तर देंहटाएं
  2. झुकना सिखाया वीर पोरष ने मुझे,
    दंभी सिकन्दर,ना समझ असफ़ल मुझे।
    वाह्! बहुत अच्छी लगी गज़ल। इसे पढवाने के लिये आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  3. bahut khoobsurat gazal...jiske liye likhi ho aur vo padh le to uski balle balle ho jaye.:)

    उत्तर देंहटाएं
  4. मन्ज़ूर है तेरी ग़ुलामी बा-अदब,
    है जान से प्यारा तेरा जंगल मुझे ।
    इस गुलामी पर आज़ादी न्योछावर है.
    अच्छी ग़ज़ल बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  5. ईन्डियन सीटीजन ब्लाग के मुखिया , ज़ील जी , निर्मला जी , अनामिका जी व विजय वर्मा जी का तहे-दिल आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  6. तेरे तस्व्वुर ने किया पागल मुझे,
    कोई दवा भी है नहीं हासिल मुझे।

    Matle me kaafiyaa set nahi ho paaya hai

    aur bhi kai jagah matraye gat badh rahi h...

    kathya ke hisaab se laajavaab hai aapki gajhal

    Dhanyavad..

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------