प्रभुदयाल श्रीवास्तव का बाल-गीत

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------


      जैसे को तैसा
 
उस दिन सुबह दादाजी
भोर भ्रमण को निकल पड़े ,
बहुत तेज चलते जाते थे
जैसे जाते उड़े उड़े |
 
बीच सड़क एक कुत्ता आया
उन्हें देखकर गुर्राया ,
पहले भौंका जोर जोर से
फिर फिर गुर्रा डरवाया |
 
दादाजी ने बड़े प्रेम से
उस कुत्ते को पुचकारा ,
फिर भी वह जब न माना तो
घुमा छड़ी सिर पर मारा |
 
डंडा सिर पर पड़ जाने से
तुरंत भौंकना बंद हुआ ,
डर के मारे दादाजी के
पल भर में वह हवा हुआ।

यदि प्रेम से समझाने पर ‌
बात नहीं कोई माने तो ,
कर सकते तुम भी उपाय ‌
खुद अपनी जान बचाने को |
 
एक गाल पर थप्पड़ खाकर
दूजा गाल बताना मत ,
गाँधी का सिद्धांत कभी भी
अपने पर आजमाना मत |
 
समय आजकल वह आया है
जैसे को तैसा करना ,
जब तक हैं हम सही राह पर ‌
फिर बेमतलब क्यों डरना |
---

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "प्रभुदयाल श्रीवास्तव का बाल-गीत"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.