विजय वर्मा की कविता - जाड़े की धूप है, जरा सेंकने दीजिए...

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

देखने दीजिये.


इंसानियत के ख्वाब हैं, देखने दीजिये

जाड़े की धूप है ,जरा सेंकने  दीजिये.

 

हम तो आज सच बात ही कहेंगे,

लोग पत्थर फेंकते है, फेंकने दीजिये.

 

उनकी आत्मा तो बहुत पहले बिकी थी.

अब झूठे सपने बेचते है, बेचने दीजिये.

 

आज दिखा हूँ मै आपको जलता हुआ

वर्षों से जल रहा हूँ, जलने दीजिये.

 

ये रास्ता किसी मंदिर-मस्जिद को नहीं जाता

हम इसी पर चलेंगे, हमें चलने दीजिये.

----

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

4 टिप्पणियाँ "विजय वर्मा की कविता - जाड़े की धूप है, जरा सेंकने दीजिए..."

  1. सुन्दर अभिव्यक्ति , बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति , बधाई हो |

    उत्तर देंहटाएं
  3. संगीता स्वरुप जी,डॉ.दानी और साहू जी
    प्रतिक्रिया के लिए धन्वाद.

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.