गुरुवार, 16 दिसंबर 2010

गंगा प्रसाद शर्मा 'गुणशेखर' के अवधी दोहे

बेटवा जबते बड़ेभे ,दिलु भा रेगिस्तान।
फिरहूँ ममता मातु की ,सींचइ फ़सल सुखान।।


जरिया सारी बेंचि कइ,जीका किहिसि इलाजु।  
धरिसि गड़ांसा  गरे पर, वहइ पुतउना आजु।।   

कुछु मा कुछु लगबइ  करी, रंगु  हमारे अंग।
इउ कहबुइ बेकार हइ, 'का करि सकत कुसंग'।। 

पहिले देखेउ परिस्थिति,तब कीन्हेउ तकरार।  
बड़े-बड़े बिरवा बहे, जो थे बसे कगार।। 


बिरह अगिनि ते हइ कहूँ, कम कविताई पीर।
तपे आगि माँ तब बने,तुलसी,सूर,कबीर।।


चहइ नहावइ नील ते,चहइ मुड़ावइ केस।
जब तक असली चाम नहिं, का बदले भा भेस।।  

मँह गाई की मार मा, बचइ न ध्याला सेस।
जब तक नेता   भ्रस्ट हइँ ,सुखी न होई देस।।


तुम बिंलगे जउ डार-डार हम मछई हर पात।
तुमरेउ घर की पता हइ, हमका सारी बात।


का कीका कुछु मिला हइ, जग मरजादा लाँघ।  
   याक जाँघ की लाज का कहइ न द्वासरि जाँघ।

                -डॉक्टर गंगा प्रसाद शर्मा'गुणशेखर'

4 blogger-facebook:

  1. डाक्टर साहब, नमस्कार ! बहुत दिनों बाद हरदोई- सीतापुर क्षेत्र की बोली में कुछ सुनने को मिला .....क्षेत्रीय बोलियाँ ही हिन्दी की जान हैं ज़ो हिन्दी की अस्मिता....उसके प्राण को जीवित रखे हुए हैं .....प्रयास ज़ारी रखें .....साधुवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बिरह अगिनि ते हइ कहूँ, कम कविताई पीर।
    तपे आगि माँ तब बने,तुलसी,सूर,कबीर।।
    ....आग में तपकर ही सोना निखरता है ...बहुत अच्छी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  3. लोक मन की सक्षम और प्रभावी अभिव्‍यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं
  4. bahut achhha lagaa aisi rachnaye internet par padhkar .... aap vastav me sadhuvad ke haqdaar hai... maine kabhi socha bhi na tha ki itni door videsh me baithkar kabhi is tarah ke dohe padhne ka sukh bhi parpt kar sakunga

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------