शुक्रवार, 30 अप्रैल 2010

अशोक जमनानी की कविता - धूप

धूप धूप है बहुत तुम याद मत आना पैर जल रहें हैं तुम याद मत आना छाँव दूर है तुम याद मत आना मुश्किल भरा सफर है तुम याद...

गुरुवार, 29 अप्रैल 2010

उमेश कुमार चौरसिया की दो कविताएँ

कविताएं प्‍यार प्‍यार स्पर्श है अहसास है चलती-रूकती एक श्‍वास है। प्‍यार मिलन है, जुदाई भी प्‍यार अमन है, खुदाई भी। प्‍यार...

बुधवार, 28 अप्रैल 2010

हास परिहास : फ़र्क़ आदमी और औरत में…

यदि दो आदमी आपस में  अनजाने में टकरा जाएँ तो वो एक दूसरे के ऊपर मुट्ठी तान लेंगे. पहला बोलेगा – ‘ऐ – अंधा है क्या? देख के नहीं चल सकता?...

सारिका अंक 1986 से कुछ ग़ज़लें - मैं किन्हीं खुरदरे सवालों-सा, खूबसूरत जवाब-सी है वो.

आशुफ़्ता चंगेजी की ग़ज़ल   सदाएँ कैद करूं, आहटें चुरा ले जाऊँ, महकते जिस्म की सब खुशबुएँ उड़ा ले जाऊँ.   तेरी अमानतें महफूज रख ...

प्रमोद भार्गव का आलेख - बीमारियों को महामारी में बदलने का खेल

भारत में ही नहीं पूरी दुनिया में साधारण बीमारियों को महामारी में बदलने का खेल चल रहा है। यह खेल बहुराष्‍ट्रीय दवा कंपनियां अरबों-खरबों क...

माणिक का व्यंग्य : बारह लाइन लिखकर बन गए साहित्यकार

आजकल सभी तरफ छपने छपाने का जो दौर चल पड़ा है,कई बार दिल इतना क्रोधित होता है कि,कुछ कर नहीं पाने पर बस सिर फोड़ने की इच्छा होती है. देश भ...

मंगलवार, 27 अप्रैल 2010

दीनदयाल शर्मा की ग़ज़ल

ग़जल की शक्ल में एक रचना तकाज़ा वक्त का / दीनदयाल शर्मा चेहरे पर ये झुर्रियां कब आ गई, देखते ही देखते बचपन खा गई. वक्त...

चंद चुनिंदा कविताएँ

सुरेन्द्र अग्निहोत्री की कविता पाने को सियासत अपने भी पराये हुये जिन्‍हें दी थी कुर्सी वे भी बेगाने हुये पुत्रमोह में कलंकित की निष...

घनश्याम मौर्य की ग़ज़ल

ग़ज़ल मुझको ज़रा समझा ये माजरा तो दीजिये। इस मौके पर फबता मुहावरा तो दीजिये। तैयार बाज़ीगर है , खड़े हैं तम...

रविवार, 25 अप्रैल 2010

अरुणा कपूर की कहानी : मोहिनी समाई सागर में...

मोहिनी ! .... पिछ्ले महीने ही मेरे पड़ोस के मकान में रहने आ गई है!...नाम भले ही मोहिनी है ; उसे सुंदर नहीं कहा जा सकता!... सांवला ...

वीरेन्‍द्र सिंह यादव का आलेख – समकालीनता : और गहन जीवन अनुभवों के क्रांतिदर्शी लेखक मोहन राकेश

युवा साहित्‍यकार के रूप में ख्‍याति प्राप्‍त डाँ वीरेन्‍द्र सिंह यादव ने दलित विमर्श के क्षेत्र में ‘ दलित विकासवाद ' की अवधारणा को स्‍...

शनिवार, 24 अप्रैल 2010

नन्दलाल भारती का लघुकथा संग्रह एहसास - पीडीएफ़ ईबुक में मुफ़्त डाउनलोड कर पढ़ें

नन्दलाल भारती का लघुकथा संग्रह रचनाकार पर पढ़ें स्क्रिब्ड ईपेपर पर यहीँ या मुफ़्त में डाउनलोड कर या प्रिंट कर पढ़ें. डाउनलोड हेतु नीचे दिए ग...

एस. के. पाण्डेय की बाल कविता - बच्चों के लिए : जंगल में कोहराम

( १) पशु, पक्षी आदिक एक बार । जंगल में सब करें विचार ।। बढ़ता मानव अत्याचार । क्या होगा इसका उपचार  ?    ( २) पेड़, बगीचे सारे...

माणिक की कविता - आदमीजात

आदमीजात जीत जाता है हरदम वो ही, अबला हारी, हारी है, देख आईना ताज़ा ताज़ा, लिख रहा हूं सच्चा मुच्चा, फ़िर से अनुभव भारी है, बे...

शुक्रवार, 23 अप्रैल 2010

यशवन्त कोठारी का व्यंग्य - वे और अकादमी

वे एक मामूली हिन्दी अध्यापक थे। महान् बनना चाहते थे, सो अकादमी में घुस गये। वे अब महान् साहित्यकार हो गये। अकादमी भी उनको पाकर धन्य हो गई...

यशवन्त कोठारी का व्यंग्य - चिकने कवर पर खुरदरे सत्य

                                                       बाजार में जब से पुरानी साहित्यिक-सामाजिक पत्रिकाएं गायब हुई हैं । पुस्तक-पत्रिकाओं ...

अशोक गौतम का व्यंग्य - काश! ये पेट न होता सर!!

सच्‍ची को, नौकरी तो साली बाप की भी बुरी होती है। और ये ठहरी सरकार की जो चौथे रोज बदली होती है । सरकार की भी काहे की, उनकी। आज की डेट में ...

आर. के. भारद्वाज की कहानी – सः मम प्रिय

वयोवृद्ध चुनाव आयोग ने चुनावी शंखनाद किया, शंखनाद के उपरान्‍त विभिन्‍न राजनैतिक दलों ने भी अपनी अपनी सामर्थ्‍य के अनुसार शंखनाद किया, कुछ...

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------