सोमवार, 31 जनवरी 2011

यशवन्‍त कोठारी का व्यंग्य - सीडी नाम सत्य है

सीडी है तो एक छोटी सी चीज, मगर काम बड़े-बड़े कर देती है। सीडी में कुछ भी भरा जा सकता है। सीडी कभी भी कहीं भी बांटी जा सकती है। पत्रकार वार्...

यशवन्‍त कोठारी का आलेख : सवाल राजनैतिक नियुक्‍तियों का

इन दिनों राजनैतिक नियुक्‍तियों की बड़ी चर्चा है। केन्‍द्र व प्रदेश की सरकारें सत्‍ता में आने के बाद ही राजनैतिक नियुक्‍तियों की कवायद में...

रविवार, 30 जनवरी 2011

संजय दानी की ग़ज़ल - मेरा सफ़र

मेरा सफ़र रात उम्मीद से भारी है, सुबह होने नहीं वाली है। मुश्किलों से भरा है सफ़र, आज ज़ख्मों की दीवाली है। मैं चरागों का दरबान हूं, वो हवाओं...

शनिवार, 29 जनवरी 2011

वीनस 'जोया' की कविता - कुछ रिश्ते - नातों की यादें

कुछ रिश्ते - नातों की यादें कुछ रिश्ते - नातों की यादें मिट्टी की खुशबू की तरह होती हैं वक़्त की धूप और जिंदगी की हवा मिट्टी को सुखा - रु...

गोविन्द शर्मा की बाल कहानी - गजराज सरजू

सुरगढ़ के राजा गजानंदसिंह के राज्‍य में घोड़ों से भी ज्‍यादा हाथी थे। वह वर्ष में एक बार हाथी मेला भी आयोजित करते थे। इस मेले में हाथियों क...

गोविन्‍द शर्मा का व्यंग्य - मेरा गुस्सा मेरा है

मेरा पहला गुस्‍सा उस कवि पर है, जिसने सिर्फ अपनी पत्‍नी के बोलने पर कुछ कविताएं लिख दी और प्रसिद्ध हो गये। मैंने दूसरों की पत्‍नियों के संद...

शुक्रवार, 28 जनवरी 2011

प्रमोद भार्गव का आलेख : अच्छी पुलिस या अपनी पुलिस

पुलिस की कार्यप्रणाली प्रजातांत्रिक मूल्‍यों और संवैधानिक अधिकारों के प्रति उदार, खरी व जवाबदेह हो इस नजरिये से सर्वोच्‍च न्‍यायालय ने करीब...

प्रमोद भार्गव का आलेख : कर चोरी के सुरक्षा कवच में कालाधन

हमारे देश में जितने भी गैर कानूनी काम हैं, उन्‍हें कानूनी जटिलताएं संरक्षण का काम करती हैं। कालेधन की वापिसी की प्रक्रिया भी केंद्र सरकार क...

रामवृक्ष सिंह का व्यंग्य संग्रह : सच का सामना

सच का सामना (व्यंग्य-संकलन) डॉ. आर.वी. सिंह (रामवृक्ष सिंह) आर.वी.सिंह/R.V. Singh ईमेल/email- rvsingh@sidbi.in 1. बिहारी और सवाई राजा...

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------