गुरुवार, 6 जनवरी 2011

गंगाप्रसाद शर्मा 'गुणशेखर' के ठंड से ठिठुरते दोहे

ठंड से ठिठुरते दोहे

thand se thithurte dohe
कुहरे की आकाश से , शाम हुई क्या बात।
सुबह-सुबह ही लूट ली, सूरज की बारात।।


ठिठुर-ठिठुर कर ठंड से,होती है बेहाल।
कौन लूट कर ले गया 'पश्मीना' की शाल ।। 


पाँचों भाई-बहिन औ,  पिल्ले-पिलिया चार।
सर्दी  में लिपटे सहें ,कंगाली की  मार।।


कुहरे, सरदी, धुंध के ,ऐसे-ऐसे  दंड। 
भिगो-भिगो कर हवा में , हाड़ तोड़ती ठंड।   

आग सेंकने ज्यों गया, सूरज थानेदार।
कुहरे ने लूटा तभी, किरणों का बाज़ार।।


ठिठुर- ठिठुर कर ठंड से , रात पड़ी  बेहाल।
भोर चिढ़ाने आ गई,   ओढ़ सुनहली शाल।।


देख हाँकते चाँद को, तारों वाले ढोर।
सरदी में शैतान -सी ,मिली चिढ़ाती भोर।। 


  सारे मारे जाएँगे, झीलों के जलजात।
चला रही है बरछियाँ, शीत-लहर दिन-रात  ।। 

 
कुहरे की रस्सी कसी, सिर पर सरद कटार।
हवालात में बंद है, सूरज पहरेदार।


जीर्ण  लँगोटी शीर्ण तन,कैसे सहता ठंड।
सुबह-सुबह ही मर गया ,निर्धन राम अखंड।।

--

10 blogger-facebook:

  1. सुबह सुबह ही मर गया ,निर्धन राम अखंड।

    बहुत ही सुन्दर दोहे , मुबारकबाद और आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर दोहे....शर्माजी...कुछ तो गर्मी आयेगी....

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह एक से बढ़ कर एक :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. ठंड ने तो बिल्कुल ही ठंडा कर दिया है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. RNPANDEY1:46 pm

    SHARMA JI PAHAREDAR KO KAID SE CHHUDAIE/

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाकई बेहतरीन हैं ठण्ड से ठिठुरते दोहे, लाजवाब, बेहतरीन! तारीफ़ के लिए शब्द कम पड़ रहे हैं!

    उत्तर देंहटाएं
  7. कृपया गुणशेखर जी के बारे में कुछ जानकारी दें!

    उत्तर देंहटाएं
  8. नीलेश माथुर जी,
    इस हेतु आप श्री गंगा प्रसाद जी से सीधे संवाद स्थापित कर सकते हैं. उनका ईमेल आईडी है - dr.gunshekhar@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  9. आदरणीय माथुर जी,
    आप सहित सभी प्रशंसकों को सादर अभिवादन!
    मैं लखनऊ का हूँ.मेरा संक्षिप्त परिचय मेरी साइट पर है.
    आप लोगों की दुआ से अभी भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद,विदेश मंत्रालय ,भारत सरकार की ओर से सांस्कृतिक प्रतिनिधि के रूप में दो वर्षों की विदेश सेवा हेतु फरवरी के प्रथम सप्ताह में ही देश छोड़ना पड़ रहा है पर संजाल(web) के तार ज़रूर जुड़े रहेंगे। साइट पर गलती से प्रकाशित कुछ अधूरी रचनाओं और वर्तनीगत अशुद्धियों को माफ़ करते हुए मुझे पढ़ा जाए तो ही ठीक रहेगा। संपादन बाद में होता रहेगा।
    मेरी साइट का पता है-http//www.gpsharma.webnode.com
    आप सबका ही(एक शुभचिंतक)
    डाक्टर गंगा प्रसाद शर्मा 'गुणशेखर'

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------