शुक्रवार, 14 जनवरी 2011

एस के पाण्डेय की बाल कविता - उपहार

 
chooha 
                   (१)
 
मौसी मुझे ना डालो मार ।
दूँगा मैं  तुमको   उपहार ।।
बिल्ली बोली तूँ  होशियार ।
छोड़ूँ कैसे लगा शिकार ।।
 
             (२)
 
मौसी मानों तुमको हार ।
दूँगा मैं कुछ करो बिचार ।।
लालच में आ गयी बिलार ।
बोली बेटा तुझको प्यार ।।
 
        (३)
 
चूहा भागा कहे पुकार ।
'जीत-हार' का दे दिया हार ।।
वादा पूरा हुआ हमार ।
बिल्ली बोली तूँ मक्कार ।।
जा हो तेरा सत्यानास  ।
मौसी को कर दिया निरास  ।।
 
-----
              डॉ. एस के पाण्डेय,
              समशापुर (उ. प्र.)  ।

     URL: http://sites.google.com/site/skpvinyavali/


                  *********

2 blogger-facebook:

  1. बेहद शानदार बाल-कविता
    लोहड़ी,पोंगल और मकर सक्रांति : उत्तरायण की ढेर सारी शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छी कविता बधाई ,संयोजन में थोड़ी सरलता आ जाये तो ये एक अच्छी बाल कविता का दर्जा पाने में सक्छम है।

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------