सोमवार, 17 जनवरी 2011

सतीश चन्द्र श्रीवास्तव की कविता -

कविता
   kavita tapao
तपाओ,
मुझे इतना तपाओ
कि मैं गल जाऊँ
मैं नहीं चाहता
काँच की तरह  टूटना
टूट कर जुड़ना
जुड़ कर टूटना
और बदसूरत हो जाना
मुझे तपाओ और तपाओ
कि मैं एक नये सांचे में ढ़ल
मैं जुड़ती हुई मूरत नहीं
एक नई सूरत देखना चाहता हूँ.
सिर्फ अपने लिए ही नहीं
तुम्हारे लिए भी कुछ चाहता हूँ.

--
  Satish Chandra Srivastava

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------