बुधवार, 26 जनवरी 2011

एस के पाण्डेय की गणतंत्र दिवस विशेष बाल कविता - गौरवशाली भारत

Tiranga

बच्चों के लिए: गौरवशाली भारत

भारत जैसा देश न दूजा इसकी बात निराली ।

केवल हम नहीं दुनिया कहती भारत गौरवशाली ।।

 

ताल, तलैया, नदियाँ, झरने, खेतों में हरियाली ।

गाँव-शहर, वन, गली बगीचे ऋतुएं सब मतवाली ।।

 

गिरि, जलनिधि, नाटक-नौटंकी, गीत, संगीत, कवाली ।

पक्षी चहकें बच्चे किलकें हर सय में खुशहाली ।।

 

हवाई जहाज अरु मोटर चलती गाड़ी बैलों वाली ।

सायकिल रिक्सा, ट्रेन चले अरु खेत में ट्रैक्टर ट्राली ।।

 

पन्द्रह अगस्त, छब्बीस जनवरी, होली और दिवाली ।

ईद, दशहरा, क्रिसमस आये दिन मुश्किल से खाली ।।

 

भारत माँ के बीर बाँकुरे करते इसकी रखवाली ।

अपने तन-मन से भी प्यारा कहते देकर ताली ।।

 

भारत जैसा देश न कोई इसकी बात निराली ।

केवल हम नहीं दुनिया कहती भारत गौरवशाली ।।

------------

डॉ एस के पाण्डेय,

समशापुर (उ.प्र.) ।

URL: http://sites.google.com/site/skpvinyavali/

*********

10 blogger-facebook:

  1. गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  2. सभी को हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. गणतंत्र दिवस पर हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (27/1/2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।
    http://charchamanch.uchcharan.com

    गणतंत्र दिवस की हार्दिक बधाइयाँ !!

    उत्तर देंहटाएं
  5. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  7. गिरि, जलनिधि, नाटक-नौटंकी, गीत, संगीत, कवाली ।

    पक्षी चहकें बच्चे किलकें हर सय में खुशहाली ।।


    सुंदर कविता

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपकी यह सुन्दर पोस्ट आज चर्चामंच पर पुनः है.. आपका आभार ..आप वह आ कर अपने विचारों से अनुग्रहित करें |
    http://charchamanch.uchcharan.com

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------