रचनाकार में खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

रवीन्द्र अग्निहोत्री का आलेख - अपराधी कौन? मैकाले या हम?

SHARE:

अ पनी वर्तमान शिक्षा   की जिन बातों को लेकर समाज में असंतोष है उनमें से एक है  " शिक्षा का माध्यम ".  अंग्रेजी का शिक्षा के माध्य...

पनी वर्तमान शिक्षा   की जिन बातों को लेकर समाज में असंतोष है उनमें से एक है  " शिक्षा का माध्यम ".  अंग्रेजी का शिक्षा के माध्यम के रूप में  अधिकृत और व्यवस्थित  प्रयोग   तो लार्ड मैकाले  के उस विवरण पत्र   ( 1835 )   का  परिणाम था जो   उसने ब्रिटेन की संसद के  नए   आज्ञापत्र  ( चार्टर 1833 )  को व्यावहारिक  रूप  देने के लिए  तैयार किया.  आज्ञापत्र को  अंतिम रूप देने से पहले ही  डायरेक्टरों  ने  अपना मंतव्य स्पष्ट करते हुए  5  सितम्बर 1827  को गवर्नर जनरल  को  पत्र में लिखा कि शिक्षा के लिए निर्धारित धन  उच्च और मध्य  वर्ग के ऐसे भारतीयों की शिक्षा पर  ही  खर्च किया जाए  जो  हमारे  शासन केलिए ' एजेंट '  का काम करें .   उस समय  स्कूल चलाने वाले   प्रायः  तीन तरह के लोग थे  -  

      1. कंपनी के कर्मचारी,  जो  अपने बच्चों    के लिए  इंग्लैंड  के स्कूलों जैसी  शिक्षा देना चाहते थे ,       
      2. ईसाई  मिशनरी  जो  मुख्य रूप से  ईसाई धर्म की शिक्षा देते थे.  मिशनरियां   धर्म प्रचार का काम  सामान्यतया  समाज के निर्धन लोगों के बीच  करती थीं . अतः वे अपनी  शिक्षा में किसी व्यवसाय की शिक्षा  भी शामिल करते थे ताकि धर्मान्तरित लोगों का  आर्थिक स्तर  सुधर सके, और
      3. भारतीय जिसमें हिन्दू और मुसलमान  दोनों थे जो क्रमशः पाठशाला / आश्रम,  मकतब / मदरसे  वाली शिक्षा देना चाहते थे. 

यों तो इन सभी की नज़र  उक्त राशि पर लगी हुई थी, पर  कंपनी के कर्मचारी और ईसाई मिशनरी इस पर अपने विशेषाधिकार समझते थे.

मैकाले के सम्बन्ध में यह जान लेना उपयोगी होगा कि  जब ब्रिटिश पार्लियामेंट ने  " गवर्नमेंट  ऑफ़  इंडिया  एक्ट 1833  "  पास किया तो  मैकाले  को  गवर्नर जनरल  काउन्सिल  ( जिसे सुप्रीम काउन्सिल ऑफ़  इंडिया  कहते थे  )   का  विधि सदस्य  ( Law   Member )  नियुक्त किया.  अतः मैकाले  1834 में  भारत आया. यहाँ उसे  " कमेटी ऑफ़  पब्लिक इंस्ट्रक्शन "  का अध्यक्ष बनाया गया. इस कमेटी में दस सदस्य थे जिनमें से आधे सदस्य तो  संस्कृत, फारसी, अरबी की शिक्षा जारी रखने के समर्थक थे, पर शेष आधे अंग्रेजी  की और यूरोपीय ज्ञान-विज्ञानं की शिक्षा देने के पक्ष में थे. इस विवाद को समाप्त करने और कंपनी के  डायरेक्टरों की इच्छा को लागू करने की दृष्टि से उसने अपने विवरण-पत्र   में तीन नीतिगत बातें कहीं  :

  1. हमें अपना राज्य सुदृढ़ करने के लिए ऐसे  लोग चाहिए जो  रक्त और रंग में तो  भारतीय हों,  पर रुचियों में,  दृष्टिकोण में,  नैतिकता में और बुद्धि में अँगरेज़ हों.  ऐसे लोग तभी तैयार किए जा सकते हैं जब उन्हें यूरोपीय ज्ञान - विज्ञान  की शिक्षा दी जाए.  अतः हमें यह राशि  " यूरोपीय  ज्ञान - विज्ञान " ( इसी को अब  हम लोग " आधुनिक ज्ञान - विज्ञान " कहने लगे हैं )  के प्रसार पर  खर्च करनी चाहिए.
  2. इसके लिए अंग्रेजी को ही  शिक्षा का माध्यम बनाना होगा  क्योंकि  भारतीय भाषाएँ इतनी अविकसित और गंवारू  हैं कि उन्हें यूरोपीय  भाषाओँ से संपन्न किए  बिना उनमें  यूरोपीय ज्ञान - विज्ञान का अनुवाद तक संभव नहीं.
  3. यह शिक्षा सबको नहीं, समाज के केवल विशिष्ट  वर्ग को देनी चाहिए. यह विशिष्ट वर्ग ही  इस ज्ञान - विज्ञान का प्रसार  देश के अन्य लोगों में  देशी भाषाओँ के माध्यम से  ( कृपया इन शब्दों पर  ध्यान दें , देशी भाषाओँ के माध्यम से )  कर लेगा . इसे ही शिक्षा-शास्त्र की पारिभाषिक शब्दावली में 'अधोमुखी निस्यन्दन सिद्धांत  ( downward   filtration   theory ) ' कहते हैं. मैकाले  के निम्नलिखित  शब्द  ध्यान देने योग्य हैं  : "   We must at present do our best to form a class who may be interpreters  between us  and the millions whom we govern ……… a class of persons  Indian in blood and colour , but English in tastes, in opinions, in  morals and  in  intellect.  To   that   class we    may   leave it to  refine  the  vernacular  dialects  of the country,  to  enrich  those  dialects  with  terms  of  science  borrowed  from  western  nomenclature,  and  to  render  them  by  degrees  fit  vehicles  for conveying  knowledge  to the great  mass  of the  population.” ( Selections from  Educational  Records, Part-1,  Edited by  H. Sharp; Reprint  Delhi :  National  Archives of India,  1965,  Pages  107 – 117 )

गवर्नर जनरल  वेंटिक  ने  इस विवरण पत्र को स्वीकार कर लिया.  साथ ही, अंग्रेजी शिक्षा के प्रति  भारतीयों को आकर्षित  करने,  कंपनी के माल की बिक्री बढ़ाने,  तथा कंपनी का  व्यय  कम  करने की दृष्टि से  उसने  कंपनी की  सरकारी नौकरी में भारतीयों को  कम वेतन पर  ऊँचे पद देने  शुरू कर दिए .  पुर्तगाली , फ्रांसीसी, डच और अँगरेज़  इस देश के उद्योग - धंधों को  जिस तरह नष्ट कर चुके थे  और परिणामस्वरुप  अर्थ व्यवस्था की जो  दुर्दशा हो चुकी थी  (  उक्त यूरोपीय जातियों के आने से पहले  इस देश की जो आर्थिक स्थिति थीविश्व व्यापार में उसका जो स्थान था , और इन जातियों ने जिस तरह से  उस सबको नष्ट किया - उसका विस्तार से अध्ययन    सुन्दर लाल की   "  भारत  में  अंग्रेजी राज "रमेश चन्द्र दत्त  आई. सी. एस. की  "  भारत  का  आर्थिक  इतिहास " सुरेन्द्र नाथ गुप्त की  " सोने की चिड़िया और लुटेरे  अंग्रेज़ "  जैसी पुस्तकों में किया जा सकता है ), उसके परिप्रेक्ष्य  में  नौकरी का आकर्षण   अत्यंत स्वाभाविक ही था.  अतः   भारत के  विशाल मध्यम वर्ग में  अंग्रेजी शिक्षा की मांग  बढ़ने लगी.  शायद इसीलिए  मैकाले के विवरणपत्र  को  कुछ शिक्षा - शास्त्री  " मील का पत्थर " कहते हैं, तो कुछ इसे  " खतरनाक  रपटीला  मोड़ "  बताते हैं.        

इस   विवरण से  यह तो  स्पष्ट   ही है  कि  शिक्षा के  माध्यम   के रूप   में अंग्रेजी  का  प्रयोग  अंग्रेजी  शासन - काल  में ही  स्वयं  मैकाले  की  दृष्टि में कोई  " स्थायी  व्यवस्था "  नहीं, केवल " तात्कालिक  अस्थायी  व्यवस्था " थी

क्योंकि  मैकाले का  अंतिम उद्देश्य  सामान्य  जनता  में  यूरोपीय ज्ञान - विज्ञान

का प्रसार  " देशी भाषाओँ के माध्यम "  से करना  था ;  पर  हमने  " स्वतंत्र   भारत "  में  अंग्रेजी माध्यम को   ही " स्थायी  व्यवस्था " बना दिया .   तो अस्थायी व्यवस्था को स्थायी बनाने  का  अपराधी  कौन  है ? मैकाले  या  हम  ? हमने तो जापान, कोरिया ,  चीन  जैसे  देशों तक  से  कुछ सीखने  का  प्रयास नहीं किया  जिन्होंने  यूरोपीय ज्ञान विज्ञानं  पहले  यूरोपीय  भाषाओँ  में सीखा  अवश्य, पर  फिर उसे  अपनी भाषाओँ  के  माध्यम  से  अपने  देश में फैलाकर  विश्व  के प्रमुख  देशों  में  अपना स्थान सुरक्षित कर लिया .  जापान  ने  जब  19 वीं शताब्दी  के  अंत में  अपनी  शिक्षा को  नई  चाल में  ढालने  का प्रयास  किया तो  अनेक युवाओं को  पढ़ने  के लिए   यूरोप - अमरीका  भेजा,  जिन्होंने  वापस आकर  उस ज्ञान  को  अपने  देश में  जापानी  भाषा  के  माध्यम  से  ही फैलाया.  ज्ञान - विज्ञान  का  माध्यम  जब  कोई  विदेशी  भाषा होती है  तो उसके  तमाम  शब्द  हमें  रटने   पड़ते हैं  क्योंकि  उनके  अर्थ  हम  नहीं समझते.  इसके  विपरीत  अपनी  भाषा  के  शब्दों    के  अर्थ में  एक पारदर्शिता होती है .  जैसे, अंग्रेजी का  " affidavit "  तो  हम  रटते  हैं,  पर उसके  लिए   हिंदी  शब्द  " शपथ पत्र "  का अर्थ  अपने आप  में  स्पष्ट हो जाता है.  यही कारण है  कि  जापानियों  ने यूरोपीय  ज्ञान - विज्ञानं  के लिए  अपने शब्द बनाकर  आधुनिक  ज्ञान - विज्ञानं  अपने  देशवासियों  के लिए  बोधगम्य  बना दिया. जैसे ,  ' बैरोमीटर '  को वे  sei - u - kei  ( धूप - वर्षा  मापक ),  या  ' एस्बेस्टस '  को  seki - men  ( पत्थर  की  रुई )  कहते हैं.  जापान जैसे  देशों की  प्रगति का  यह  मूल  रहस्य  है .

मैकाले ने भले ही अंग्रेजी को  ' यूरोपीय ज्ञान - विज्ञान  प्राप्त करने  का साधन ' बताया हो,  हमने तो उसे  ' सरकारी  नौकरी  का  लाइसेंस '   मानकर अपनाया. आर्थिक  दृष्टि से  जर्जर होते समाज में हमें  अंग्रेजी  कल्पवृक्ष  की सुखद छाया जैसी  प्रतीत हुई  जहाँ  सरकारी नौकरी के सारे  ऐशो - आराम  तुरंत मिल सकते थे. परिणाम  यह  हुआ  कि  ' अंग्रेजी '   तो  देश के कोने - कोने  में  फैल गई,   पर  ' ज्ञान - विज्ञान '  लुप्त  हो गया.  यही कारण है  कि  आधुनिक शिक्षा प्राप्त व्यक्ति  भी  आज तक  अज्ञान, अविद्या,  अंध विश्वास  की  उन्हीं अंधी गलियों में भटक रहा है  जिनमें आधुनिक ज्ञान - विज्ञान  से  अनभिज्ञ  व्यक्ति भटकता रहता  है.  अंग्रेजी   पढ़ा  सामान्य व्यक्ति  ही  नहीं,  विज्ञान  का प्रोफ़ेसर, डाक्टर,    इंजिनियर भी  किन्हीं  अदृश्य  शक्तियों  से  इतना अधिक  आतंकित है कि  अपने  नए  मकान  की   रक्षा  के  लिए  मकान  पर  काली  हांडी लटकाना आवश्यक  मानता  है.  अपनी  रक्षा  के लिए   हाथ  की  अँगुलियों  में रंग - विरंगे  पत्थरों वाली  अंगूठियाँ  पहनता  है.  भौगोलिक  तथ्यों  को  जानते हुए भी सूर्य / चन्द्र  ग्रहण  के  अवसर  पर  देवताओं  को  संकट  से उबारने के लिए स्नान - ध्यान - पूजा - पाठ  करता है.  ' पंडितों '  को  खाना  खिलाकर अपने ' स्वर्गस्थ '  पितरों का  पेट  भरता  है. ऐसी  ही  मानसिकता के कारण  वह  तो कंप्यूटर का  उपयोग  भी  ' जन्मपत्री '   तैयार करने के लिए  करता  है.    

जो अंग्रेजी  आधुनिक ज्ञान - विज्ञान   की  वाहिका  बताई  गई  थी,  उसका  हमने ज्ञान - विज्ञान  से तो सम्बन्ध - विच्छेद  कर दिया,  पर  अंग्रेजी  को पूरी  श्रद्धा से इस  तरह  अपना लिया कि  केवल  नौकरी  के  काम नहीं,   बल्कि   अपने निजी  और सामाजिक  जीवन के   छोटे - बड़े  काम भी उसी  भाषा  में  करने लगे.  हम  तो  उसे  मंदिर  की  देवी  मानकर  उसकी  पूजा  करने  लगे हैं. तभी तो  विवाह  जैसे   जीवन के  अत्यंत  महत्त्वपूर्ण  अवसर के निमंत्रण पत्र  हों  या दीपावली  -  नव वर्ष - विवाह  की वर्षगांठ - जन्मदिवस जैसे  अवसरों के शुभकामना सन्देश,  घर के   दरवाजे  पर लगने वाला  नामपट  हो  या  दुकान पर  लगने  वाला  बोर्ड,  छोटी - मोटी  गोष्ठी में  बात  करनी हो  या  संसद में चर्चा, “ हिंदी “ फिल्मों / नाटकों  के पुरस्कार वितरण समारोह हों  या  संगीत  आदि के कार्यक्रम  -  हम सभी  काम अंग्रेजी  में करते  हैं.  अब  तो  धार्मिक  प्रवचन भी हम  अंग्रेजी  में  करने  लगे  हैं.  जहाँ तक  नौकरी का  संबंध  है, पहले वह सरकारी  क्षेत्र में  ही  अंग्रेजी के  माध्यम से मिलती थी,  पर  कालांतर में  निजी क्षेत्र  को   भी सरकार का  अनुसरण  करना  पड़ा.  इसके  बावजूद  लोगों  का विश्वास  था  कि  स्वतंत्रता  मिलने  पर  स्थिति  अवश्य  बदलेगी.  इस  विश्वास का ही परिणाम था  कि  जब  देश को  आज़ादी  मिलना  निश्चित  हो गया,   तो प्रसिद्ध  उद्योगपति  टाटा  ने  मुंबई  में  अपने  वरिष्ठ  अधिकारियों  को  हिंदी सिखाने  की  व्यवस्था  की ;  पर  जब संविधान - सभा ने  अंग्रेजी  जारी  रखने का निश्चय कर  लिया  तो टाटा  ने  भी  हिन्दी सिखाने की  व्यवस्था  समाप्त कर दी. संविधान - सभा  के  निर्णय  ने  सामान्य जन को  यह  स्वीकार  करने के  लिए  विवश  कर  दिया  कि   देश  भले  ही स्वतंत्र  हो गया हो, अगर सम्मान  के साथ जीना है तो अंग्रेजी की   आक्सीजन  पर ही जीना  होगा.

आज  नौकरी मिले या न मिले, पर  अंग्रेजी  के  चक्कर  में  हम  " शिक्षा  का अर्थ  और  उसका  उद्देश्य "  जैसी  सब बातें  भूल  चुके  हैं.  शिक्षा - शास्त्री पुकार - पुकार कर  कहते  आ  रहे  हैं  कि बच्चे के  शारीरिक, मानसिक ,  बौद्धिक, भावात्मक  आदि  सभी  प्रकार के  विकास के  लिए  मातृभाषा / क्षेत्रीय भाषा  के माध्यम से  शिक्षा  देना  अनिवार्य है.  चाहे  ब्रिटिश काल के  हंटर कमीशन (1882 ),  सैडलर  कमीशन (1917 )  आदि हों  या  स्वतंत्र  भारत  के  राधाकृष्णन कमीशन (1948 ), मुदालिअर  कमीशन (1952 ) , कोठारी कमीशन (1964 )  आदि हों, शिक्षा सम्बन्धी सभी  आयोगों ने  एक स्वर से  यही  सिफारिश की  है  कि माध्यमिक  स्तर तक की शिक्षा  ( जो जीविकोपार्जन  हेतु  स्वतः  पूर्ण हो ) अनिवार्य रूप से  मातृभाषा / क्षेत्रीय भाषा  के ही  माध्यम से  देनी  चाहिए ,  पर हमारा  अंग्रेजी - प्रेम  इन  बातों को  सुनना  ही नहीं चाहता .  कहा ही गया है कि प्रेम  अंधा - बहरा  होता है.  परिणाम यह  हुआ  है कि  ज्ञान - विज्ञानं  की खोज के लिए समर्पित विश्वविद्यालय  स्तर  से  शुरू  हुई  अंग्रेजी  माध्यम  की परंपरा  माध्यमिक  और  प्राथमिक  से  होते  हुए  अब  नर्सरी  स्कूलों  तक  आ पहुंची  है.  अभी  तक  हम  यही  सोचते थे कि इस  प्रकार  अंग्रेजी  माध्यम  का प्रयोग  शिक्षा  सम्बन्धी  सभी  आयोगों की  सिफारिशों  के  विपरीत  है ;  पर अब तो  अंग्रेजी प्रेमियों  के  प्रवक्ता  बनकर  हमारे स्वतंत्र  भारत के  " Knowledge Commission " (  पाठक  क्षमा करें,  पर  डर है  कि   कहीं इसे देवनागरी  लिपि में लिखना   या हिंदी में " ज्ञान आयोग " कहना  इसका अपमान  न  हो  जाए ) के चेयरमैन  मि.  सैम पित्रोदा  ने  स्पष्ट  सिफारिश  की  है  कि  पूरे  देश में हर प्रकार की  शिक्षा  का  माध्यम  अंग्रेजी ही होना  चाहिए.  सैम  पित्रोदा और उन जैसे  " विद्वानों " ने मान लिया है  कि  शिक्षा  के माध्यम  के  रूप  में अंग्रेजी का  प्रयोग  ही  आज  अलादीन  का वह  जादुई  चिराग है  जो  शिक्षा  के प्रसार की कमी,  शिक्षा की गिरती  गुणवत्ता , बेरोज़गारी  आदि तरह - तरह की सभी समस्याओं  को  हल  करके  हमारी सभी  मनोकामनाएं  पूर्ण  कर  सकता  है .

लोगों ने  मान लिया  है  कि  अंग्रेजी  माध्यम से  दी गई  शिक्षा  की  गुणवत्ता उच्च स्तर की ,  और  भारतीय भाषा  माध्यम  की  निम्न  स्तर की होती  है. विभिन्न   बोर्डों की परीक्षाओं  में  या  अखिल  भारतीय  प्रतियोगी  परीक्षाओं  में जब  कभी  भारतीय  भाषा  माध्यम  के  बच्चे  ' टाप ' करते हैं  तो  दिलजले लोग  उसे ' अंधे  के  हाथ  बटेर ' कह  देते हैं.  वे  इसे  मातृभाषा  का  प्रभाव   मानने को  तैयार ही  नहीं.  उनकी  इस  मानसिकता के  कारण देश के  सीमित संसाधन  और  अमूल्य  शक्ति  गाँव - गाँव में  अंग्रेजी माध्यम  के  विद्यालय खोलने  में नष्ट हो  रही  है .

लोग  बड़े  आग्रहपूर्वक  कहते  हैं कि  आज के युग में  अंग्रेजी  का  ज्ञान आवश्यक ही नहीं, अनिवार्य है.  उनके इस कथन से  असहमति  का तो प्रश्न ही नहीं, क्योंकि  कतिपय कामों के लिए  अंग्रेजी  का ज्ञान  वास्तव  में  आवश्यक हो गया है ;  पर इस तथ्य की  उपेक्षा कैसे  कर दी  जाए  कि  ' अंग्रेजी  की शिक्षा ' और   ' अंग्रेजी  माध्यम से  शिक्षा '  एक  दूसरे  के  पर्याय  नहीं  हैं . आज के युग  में  अंग्रेजी  का ज्ञान  केवल हमारे लिए  नहीं,  विश्व के  अन्य लोगों के लिए भी  आवश्यक है.  इसीलिए  रूसी , चीनी , जापानी, फ्रांसीसी  आदि वे लोग  भी अंग्रेजी का  अध्ययन कर रहे हैं  जिनकी  मातृभाषा  अंग्रेजी नहीं है,  पर वे  अपनी सारी  शिक्षा की व्यवस्था  ' अंग्रेजी  माध्यम से '  नहीं करते.  आज विश्व में  केवल आर्थिक  नहीं,  अन्य भी अनेक  दृष्टियों से  जो स्थान  जापान, कोरिया , चीन आदि देशों का है , हमारा  देश  उनसे  हर  क्षेत्र में  दूर,  बहुत दूर,  बहुत  ही  दूर केवल इसलिए है  क्योंकि हमने  अपने  बच्चों के विकास के  मार्ग में अंग्रेजी  माध्यम की दीवार  खड़ी कर रखी है.  इस सच्चाई  को  हम  जितनी  जल्दी  समझ लें, उतना ही अच्छा है.

अपने अंग्रेजी - प्रेम के कारण हम भावी  पीढ़ी के प्रति  अनेक  ' अपराध ' करते  आ रहे हैं . हम यह भूल गए हैं कि जहाँ तक  भाषा  सीखने का प्रश्न है  वह  कक्षा - कक्ष  में कम , ' विशिष्ट  भाषायी  परिवेश '  में अधिक  सीखी  जाती है .  बच्चा स्कूल में अंग्रेजी ' पढ़कर '  आता है ,  पर उस  पढ़े  हुए  को  ' सीखने '   के लिए उसे  अंग्रेजी  का  परिवेश  मिलता ही नहीं.  जो परिवेश  मिलता है  वह   या तो पूरी तरह  मातृभाषा / क्षेत्रीय भाषा का  होता है,  या  फिर  मिश्रित.  अतः  बच्चे का  अंग्रेजी पर  अपेक्षित  अधिकार  हो  ही  नहीं  पाता. हमारी  आज की फिल्मों के  महानायक  अमिताभ  बच्चन  की  पढ़ाई  अंग्रेजी  माध्यम  के विद्यालय  में हुई. उनके पिता डा.  हरिवंश राय  ' बच्चन ' अंग्रेजी के ही  एम्. ए. थे, पी-एच. डी. थे, और वह भी  इंग्लैंड  से.  इलाहाबाद  विश्वविद्यालय  में अंग्रेजी के ही शिक्षक थे.  माँ  तेजी बच्चन  भी अंग्रेजी की  ही  एम्. ए. थीं   और  अपने समय  के अंग्रेजी के अप्रतिम  विद्वान्  प्रो. अमरनाथ  झा  की  शिष्या थीं.  दूसरे  शब्दों में, अमिताभ को  विद्यालयी  और  पारिवारिक  दोनों ही प्रकार के परिवेश  अंग्रेजी सीखने की दृष्टि से  अनुकूलतम  मिले. इसके बावजूद  उनका  अंग्रेजी पर  अपेक्षित अधिकार  नहीं हो पाया.  अपने ' ब्लॉग ' में  उन्होंने लिखा  है  कि  मैं   अंग्रेजी व्याकरण में कमजोर था. इसलिए सेंट  स्टीफन  कालेज ( दिल्ली )  के  प्रिंसिपल के कहने  के बावजूद बी. ए. ( आनर्स ) अंग्रेजी में नहीं किया  (राष्ट्रीय सहारा, दिल्ली, 11 अगस्त , 2009 , पृष्ठ  15 ).   हर  बच्चे को तो वैसा भी पारिवारिक परिवेश नहीं मिल सकता जैसा अमिताभ  को मिला.  अतः  सहज ही  अनुमान  लगाया जा सकता है कि  इन बच्चों  को  अंग्रेजी  पर आधा - अधूरा   अधिकार पाने  के लिए भी  कितना  संघर्ष  करना  पड़ता  होगा   और  उसके  बाद भी इस पीड़ा  को जन्म भर  ढोना  पड़ता होगा कि  मुझे  ठीक से  अंग्रेजी  नहीं आती. सैम  पित्रौदा तो विदेश  में रहे हैं,  पर हर बच्चा तो विदेश  नहीं जा सकता.              

हमने  मनोवैज्ञानिकों की  बताई  इस  बात  को भी  भुला  दिया है  कि बाल्यावस्था में  भाषा सीखने का अर्थ केवल कुछ शब्द  रट  लेना  नहीं है . बाल्यावस्था  में तो  भाषा  के  माध्यम से  बच्चे के मन में  ' संकल्पनाओं '  के निर्माण की,  ' अमूर्तीकरण  '  की  प्रक्रिया  शुरू   होती है  जो उसके  मानसिक विकास  का,  चिंतन और  विचार करने का,   भावी जीवन  का  आधार होती है,  नींव होती है.  अंग्रेजी जैसी विदेशी  भाषा  के  कारण  बच्चों में यह  प्रक्रिया  बाधित होती है.   इसी  तथ्य को ध्यान  में  रखकर राष्ट्रपिता ने कहा था, अगर हम अंग्रेजी के आदी  नहीं हो गए  होते  तो  यह  समझने में  हमें  देर  नहीं  लगती कि  अंग्रेजी  के  शिक्षा  के  माध्यम होने  से  हमारी  बौद्धिक  चेतना  जीवन से कटकर   दूर हो  गई  है  , हम अपनी   जनता  से  अलग  हो  गए  हैं."   अंग्रेजी के कारण  जनता से अलग होने का ही  एक  उदाहरण  है    भोपाल गैस दुर्घटना  जैसी त्रासदी से पीड़ित  जनता के दर्द को  महसूस करने के  बजाय हमारे नेताओं का   पीड़ा देने वाले  लोगों को  बचाने का  भरसक प्रयास करना.

इस वास्तविकता  की भी  हमने  पूरी तरह  उपेक्षा  कर दी है  कि हर  सामान्य बच्चे में  मातृभाषा  ( प्रथम भाषा )  सीखने की  जैसी  क्षमता  जन्मजात  होती है वैसी  दूसरी,  तीसरी ,  चौथी .............  भाषा  सीखने की  नहीं  होती .  हमने तो अंग्रेजी  माध्यम से शिक्षा की व्यवस्था करके  हर बच्चे पर यह  जिम्मेदारी  डाल दी है  कि अंग्रेजी पर  मातृभाषा  जैसा  अधिकार  अर्जित  करो.   इसमें असफल रहने पर  हम बच्चे को  ' पिछड़ा  हुआ ' ,  ' फिसड्डी ' ,  ' नालायक ' , ' अयोग्य ' , ' मंद बुद्धि '  घोषित कर देते हैं.  लगभग  चार   दशक  पूर्व  जब  मैं विश्वविद्यालय में शिक्षक था , तब मैंने  एक  शोध  के  माध्यम से  कतिपय  माध्यमिक  शिक्षा बोर्डों  के पाठ्यक्रमों /  परीक्षा परिणामों  का विस्तृत  अध्ययन किया था  जिसके निष्कर्ष  विभिन्न शोध  पत्रिकाओं में   प्रकाशित भी हुए थे. उस समय  कई  बोर्डों में  अंग्रेजी  के दो कोर्स  थे -  अनिवार्य अंग्रेजी  ( सबके लिए ),  और  वैकल्पिक अंग्रेजी  ( जो स्वेच्छा से इसे  पढ़ना  चाहें  उनके लिए ) .  अनिवार्य  अंग्रेजी  का परीक्षा  परिणाम  जहाँ 45 से  58 प्रतिशत  तक रहा,  वहीं  वैकल्पिक  अंग्रेजी  का 88 से  97 प्रतिशत तक रहा. परीक्षा  परिणाम के इस अंतर के  कारणों  का विश्लेषण  करने पर  ध्यान गया  कि वैकल्पिक  अंग्रेजी  का  अध्ययन  वही करता है  जो इसका  लाभ  अपने  भावी  जीवन में  देख रहा  है, इसलिए  जिसकी  रुचि इस भाषा  के  सीखने में है  और जिसे  इसके  लिए  सुविधाएँ  भी  उपलब्ध हैं . इसके विपरीत  अनिवार्य  अंग्रेजी  का  अध्ययन  रुचिशील - अरुचिशील,   सामर्थ्यवान - सामर्थ्यहीन , सुविधाप्राप्त - सुविधाहीन  सभी को विवशता में करना पड़ता है . यही कारण है कि  अनिवार्य   अंग्रेजी  का परीक्षा परिणाम  ' अनिवार्य गणित ' ( 58 - 79 %), और अनिवार्य सामान्य विज्ञान ( 62 -75 %)  तक से कम रहा   जबकि  गणित  और  विज्ञान  कोई  सरल विषय नहीं. जराविचार कीजिए  कि जब  एक विषय के  रूप  में  अंग्रेजी की अनिवार्यता लगभग आधे बच्चों को असफल रहने के लिए मजबूर कर रही है  तो शिक्षा के माध्यम के रूप में अंग्रेजी की अनिवार्यता  कितने बच्चों का भविष्य चौपट कर रही होगी - यह सहज कल्पना का विषय है या  गहन  अनुसन्धान का  ? 

अगर हम चाहते हैं कि  हमारे  बच्चों की  प्रकृति - प्रदत्त  शक्तियों का अधिकाधिक  विकास  हो,  वे  अपनी  सामर्थ्य के  अनुरूप  अधिक से अधिक योग्य बनें , देश  के  किसी  वर्ग  विशेष  के  नहीं, बल्कि  सभी  बच्चों  को  आगे बढ़ने का  न्यायसंगत अवसर  मिले   ताकि   पूरे   देश  की   प्रतिभा  को  विकसित होने  का अवसर  मिले  और  देश   का   विकास   हो,     देश  के  बच्चे  देश पर  भार  नहीं,    देश  की  सम्पदा  बनें और इस  देश  को आगे  बढाएं,  तो उसका   सबसे  पहला  अनिवार्य उपाय है -- शिक्षा के  माध्यम के  रूप में मातृभाषा / क्षेत्रीय भाषा  का प्रयोग.

स्वतंत्र  भारत  में  शिक्षा  के   माध्यम  के रूप में  अंग्रेजी  का  प्रयोग  देश को दो  भागों  में  बाँट  रहा है -  ' इंडिया '  और  ' भारत ' . महात्मा  गाँधी  ने  जो बात  राजभाषा  के  सन्दर्भ  में  कही थी,  वह  शिक्षा  के  माध्यम  के बारे में भी उतनी ही सही है.  उनके  शब्द  थे , अगर  स्वराज  अंग्रेजी  बोलने  वाले भारतीयों  का  और  उन्हीं  के लिए  होने वाला  है  तो  निस्संदेह  अंग्रेजी  ही राजभाषा  होगी  लेकिन  अगर  स्वराज  हमारे  देश  के  करोड़ों  भूखों  मरने वालोंकरोड़ों  निरक्षरोंपीड़ितों  और  दलित  जनों  का  भी  है  और  इन  सबके लिए   होने वाला है  तो  हमारे  देश  में  हिंदी ही  एकमात्र   राजभाषा  हो सकती है."  शिक्षा  के  माध्यम  के  सन्दर्भ  में   और  पूरे  देश  के  सभी  बच्चों  के सन्दर्भ में  बस इसमें  ' हिंदी '   के  स्थान  पर  ' भारतीय  भाषाएँ '  शब्द  रख दीजिए.    राष्ट्रपिता  के  इन  मर्मभेदी  शब्दों  के  बाद भी  क्या  किसी  और टिप्पणी  की  आवश्यकता  रह  जाती है  ?      

******       

डा. रवीन्द्र  अग्निहोत्री

वर्तमान पता  :  15 , डोरसेट ड्राइव, अल्फ्रेडटन , बेलारेट , विक्टोरिया  3350 आस्ट्रेलिया

स्थायी  पता  :  138 , एम् आई  जी, पल्लवपुरम फेज़ - 2 , मेरठ  250 110  भारत

agnihotriravindra@yahoo.com

COMMENTS

BLOGGER
---*---

-----****-----

|नई रचनाएँ_$type=complex$tbg=rainbow$count=6$page=1$va=0$au=0

विज्ञापन --**--

|कथा-कहानी_$type=complex$tbg=rainbow$au=0$count=6$page=1$src=random-posts$s=200

|हास्य-व्यंग्य_$type=blogging$au=0$count=6$page=1$src=random-posts

-- विज्ञापन --

---

|लोककथाएँ_$type=complex$tbg=rainbow$au=0$count=6$page=1$src=random-posts

|लघुकथाएँ_$type=list$au=0$count=5$com=0$page=1$src=random-posts

|काव्य जगत_$type=complex$tbg=rainbow$au=0$count=6$page=1$src=random-posts

-- विज्ञापन --

---

|बच्चों के लिए रचनाएँ_$type=complex$tbg=rainbow$au=0$count=6$page=1$src=random-posts

|विविधा_$type=complex$tbg=rainbow$au=0$va=0$count=6$page=1$src=random-posts

 आलेख कविता कहानी व्यंग्य 14 सितम्बर 14 september 15 अगस्त 2 अक्टूबर अक्तूबर अंजनी श्रीवास्तव अंजली काजल अंजली देशपांडे अंबिकादत्त व्यास अखिलेश कुमार भारती अखिलेश सोनी अग्रसेन अजय अरूण अजय वर्मा अजित वडनेरकर अजीत प्रियदर्शी अजीत भारती अनंत वडघणे अनन्त आलोक अनमोल विचार अनामिका अनामी शरण बबल अनिमेष कुमार गुप्ता अनिल कुमार पारा अनिल जनविजय अनुज कुमार आचार्य अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ अनुज खरे अनुपम मिश्र अनूप शुक्ल अपर्णा शर्मा अभिमन्यु अभिषेक ओझा अभिषेक कुमार अम्बर अभिषेक मिश्र अमरपाल सिंह आयुष्कर अमरलाल हिंगोराणी अमित शर्मा अमित शुक्ल अमिय बिन्दु अमृता प्रीतम अरविन्द कुमार खेड़े अरूण देव अरूण माहेश्वरी अर्चना चतुर्वेदी अर्चना वर्मा अर्जुन सिंह नेगी अविनाश त्रिपाठी अशोक गौतम अशोक जैन पोरवाल अशोक शुक्ल अश्विनी कुमार आलोक आई बी अरोड़ा आकांक्षा यादव आचार्य बलवन्त आचार्य शिवपूजन सहाय आजादी आदित्य प्रचंडिया आनंद टहलरामाणी आनन्द किरण आर. के. नारायण आरकॉम आरती आरिफा एविस आलेख आलोक कुमार आलोक कुमार सातपुते आशीष कुमार त्रिवेदी आशीष श्रीवास्तव आशुतोष आशुतोष शुक्ल इंदु संचेतना इन्दिरा वासवाणी इन्द्रमणि उपाध्याय इन्द्रेश कुमार इलाहाबाद ई-बुक ईबुक ईश्वरचन्द्र उपन्यास उपासना उपासना बेहार उमाशंकर सिंह परमार उमेश चन्द्र सिरसवारी उमेशचन्द्र सिरसवारी उषा छाबड़ा उषा रानी ऋतुराज सिंह कौल ऋषभचरण जैन एम. एम. चन्द्रा एस. एम. चन्द्रा कथासरित्सागर कर्ण कला जगत कलावंती सिंह कल्पना कुलश्रेष्ठ कवि कविता कहानी कहानी संग्रह काजल कुमार कान्हा कामिनी कामायनी कार्टून काशीनाथ सिंह किताबी कोना किरन सिंह किशोरी लाल गोस्वामी कुंवर प्रेमिल कुबेर कुमार करन मस्ताना कुसुमलता सिंह कृश्न चन्दर कृष्ण कृष्ण कुमार यादव कृष्ण खटवाणी कृष्ण जन्माष्टमी के. पी. सक्सेना केदारनाथ सिंह कैलाश मंडलोई कैलाश वानखेड़े कैशलेस कैस जौनपुरी क़ैस जौनपुरी कौशल किशोर श्रीवास्तव खिमन मूलाणी गंगा प्रसाद श्रीवास्तव गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर ग़ज़लें गजानंद प्रसाद देवांगन गजेन्द्र नामदेव गणि राजेन्द्र विजय गणेश चतुर्थी गणेश सिंह गांधी जयंती गिरधारी राम गीत गीता दुबे गीता सिंह गुंजन शर्मा गुडविन मसीह गुनो सामताणी गुरदयाल सिंह गोरख प्रभाकर काकडे गोवर्धन यादव गोविन्द वल्लभ पंत गोविन्द सेन चंद्रकला त्रिपाठी चंद्रलेखा चतुष्पदी चन्द्रकिशोर जायसवाल चन्द्रकुमार जैन चाँद पत्रिका चिकित्सा शिविर चुटकुला ज़कीया ज़ुबैरी जगदीप सिंह दाँगी जयचन्द प्रजापति कक्कूजी जयश्री जाजू जयश्री राय जया जादवानी जवाहरलाल कौल जसबीर चावला जावेद अनीस जीवंत प्रसारण जीवनी जीशान हैदर जैदी जुगलबंदी जुनैद अंसारी जैक लंडन ज्ञान चतुर्वेदी ज्योति अग्रवाल टेकचंद ठाकुर प्रसाद सिंह तकनीक तक्षक तनूजा चौधरी तरुण भटनागर तरूण कु सोनी तन्वीर ताराशंकर बंद्योपाध्याय तीर्थ चांदवाणी तुलसीराम तेजेन्द्र शर्मा तेवर तेवरी त्रिलोचन दामोदर दत्त दीक्षित दिनेश बैस दिलबाग सिंह विर्क दिलीप भाटिया दिविक रमेश दीपक आचार्य दुर्गाष्टमी देवी नागरानी देवेन्द्र कुमार मिश्रा देवेन्द्र पाठक महरूम दोहे धर्मेन्द्र निर्मल धर्मेन्द्र राजमंगल नइमत गुलची नजीर नज़ीर अकबराबादी नन्दलाल भारती नरेंद्र शुक्ल नरेन्द्र कुमार आर्य नरेन्द्र कोहली नरेन्‍द्रकुमार मेहता नलिनी मिश्र नवदुर्गा नवरात्रि नागार्जुन नाटक नामवर सिंह निबंध नियम निर्मल गुप्ता नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’ नीरज खरे नीलम महेंद्र नीला प्रसाद पंकज प्रखर पंकज मित्र पंकज शुक्ला पंकज सुबीर परसाई परसाईं परिहास पल्लव पल्लवी त्रिवेदी पवन तिवारी पाक कला पाठकीय पालगुम्मि पद्मराजू पुनर्वसु जोशी पूजा उपाध्याय पोपटी हीरानंदाणी पौराणिक प्रज्ञा प्रताप सहगल प्रतिभा प्रतिभा सक्सेना प्रदीप कुमार प्रदीप कुमार दाश दीपक प्रदीप कुमार साह प्रदोष मिश्र प्रभात दुबे प्रभु चौधरी प्रमिला भारती प्रमोद कुमार तिवारी प्रमोद भार्गव प्रमोद यादव प्रवीण कुमार झा प्रांजल धर प्राची प्रियंवद प्रियदर्शन प्रेम कहानी प्रेम दिवस प्रेम मंगल फिक्र तौंसवी फ्लेनरी ऑक्नर बंग महिला बंसी खूबचंदाणी बकर पुराण बजरंग बिहारी तिवारी बरसाने लाल चतुर्वेदी बलबीर दत्त बलराज सिंह सिद्धू बलूची बसंत त्रिपाठी बातचीत बाल कथा बाल कलम बाल दिवस बालकथा बालकृष्ण भट्ट बालगीत बृज मोहन बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष बेढब बनारसी बैचलर्स किचन बॉब डिलेन भरत त्रिवेदी भागवत रावत भारत कालरा भारत भूषण अग्रवाल भारत यायावर भावना राय भावना शुक्ल भीष्म साहनी भूतनाथ भूपेन्द्र कुमार दवे मंजरी शुक्ला मंजीत ठाकुर मंजूर एहतेशाम मंतव्य मथुरा प्रसाद नवीन मदन सोनी मधु त्रिवेदी मधु संधु मधुर नज्मी मधुरा प्रसाद नवीन मधुरिमा प्रसाद मधुरेश मनीष कुमार सिंह मनोज कुमार मनोज कुमार झा मनोज कुमार पांडेय मनोज कुमार श्रीवास्तव मनोज दास ममता सिंह मयंक चतुर्वेदी महापर्व छठ महाभारत महावीर प्रसाद द्विवेदी महाशिवरात्रि महेंद्र भटनागर महेन्द्र देवांगन माटी महेश कटारे महेश कुमार गोंड हीवेट महेश सिंह महेश हीवेट मानसून मार्कण्डेय मिलन चौरसिया मिलन मिलान कुन्देरा मिशेल फूको मिश्रीमल जैन तरंगित मीनू पामर मुकेश वर्मा मुक्तिबोध मुर्दहिया मृदुला गर्ग मेराज फैज़ाबादी मैक्सिम गोर्की मैथिली शरण गुप्त मोतीलाल जोतवाणी मोहन कल्पना मोहन वर्मा यशवंत कोठारी यशोधरा विरोदय यात्रा संस्मरण योग योग दिवस योगासन योगेन्द्र प्रताप मौर्य योगेश अग्रवाल रक्षा बंधन रच रचना समय रजनीश कांत रत्ना राय रमेश उपाध्याय रमेश राज रमेशराज रवि रतलामी रवींद्र नाथ ठाकुर रवीन्द्र अग्निहोत्री रवीन्द्र नाथ त्यागी रवीन्द्र संगीत रवीन्द्र सहाय वर्मा रसोई रांगेय राघव राकेश अचल राकेश दुबे राकेश बिहारी राकेश भ्रमर राकेश मिश्र राजकुमार कुम्भज राजन कुमार राजशेखर चौबे राजीव रंजन उपाध्याय राजेन्द्र कुमार राजेन्द्र विजय राजेश कुमार राजेश गोसाईं राजेश जोशी राधा कृष्ण राधाकृष्ण राधेश्याम द्विवेदी राम कृष्ण खुराना राम शिव मूर्ति यादव रामचंद्र शुक्ल रामचन्द्र शुक्ल रामचरन गुप्त रामवृक्ष सिंह रावण राहुल कुमार राहुल सिंह रिंकी मिश्रा रिचर्ड फाइनमेन रिलायंस इन्फोकाम रीटा शहाणी रेंसमवेयर रेणु कुमारी रेवती रमण शर्मा रोहित रुसिया लक्ष्मी यादव लक्ष्मीकांत मुकुल लक्ष्मीकांत वैष्णव लखमी खिलाणी लघु कथा लघुकथा लतीफ घोंघी ललित ग ललित गर्ग ललित निबंध ललित साहू जख्मी ललिता भाटिया लाल पुष्प लावण्या दीपक शाह लीलाधर मंडलोई लू सुन लूट लोक लोककथा लोकतंत्र का दर्द लोकमित्र लोकेन्द्र सिंह विकास कुमार विजय केसरी विजय शिंदे विज्ञान कथा विद्यानंद कुमार विनय भारत विनीत कुमार विनीता शुक्ला विनोद कुमार दवे विनोद तिवारी विनोद मल्ल विभा खरे विमल चन्द्राकर विमल सिंह विरल पटेल विविध विविधा विवेक प्रियदर्शी विवेक रंजन श्रीवास्तव विवेक सक्सेना विवेकानंद विवेकानन्द विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक विश्वनाथ प्रसाद तिवारी विष्णु नागर विष्णु प्रभाकर वीणा भाटिया वीरेन्द्र सरल वेणीशंकर पटेल ब्रज वेलेंटाइन वेलेंटाइन डे वैभव सिंह व्यंग्य व्यंग्य के बहाने व्यंग्य जुगलबंदी व्यथित हृदय शंकर पाटील शगुन अग्रवाल शबनम शर्मा शब्द संधान शम्भूनाथ शरद कोकास शशांक मिश्र भारती शशिकांत सिंह शहीद भगतसिंह शामिख़ फ़राज़ शारदा नरेन्द्र मेहता शालिनी तिवारी शालिनी मुखरैया शिक्षक दिवस शिवकुमार कश्यप शिवप्रसाद कमल शिवरात्रि शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी शीला नरेन्द्र त्रिवेदी शुभम श्री शुभ्रता मिश्रा शेखर मलिक शेषनाथ प्रसाद शैलेन्द्र सरस्वती शैलेश त्रिपाठी शौचालय श्याम गुप्त श्याम सखा श्याम श्याम सुशील श्रीनाथ सिंह श्रीमती तारा सिंह श्रीमद्भगवद्गीता श्रृंगी श्वेता अरोड़ा संजय दुबे संजय सक्सेना संजीव संजीव ठाकुर संद मदर टेरेसा संदीप तोमर संपादकीय संस्मरण संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018 सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन सतीश कुमार त्रिपाठी सपना महेश सपना मांगलिक समीक्षा सरिता पन्थी सविता मिश्रा साइबर अपराध साइबर क्राइम साक्षात्कार सागर यादव जख्मी सार्थक देवांगन सालिम मियाँ साहित्य समाचार साहित्यिक गतिविधियाँ साहित्यिक बगिया सिंहासन बत्तीसी सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध सीताराम गुप्ता सीताराम साहू सीमा असीम सक्सेना सीमा शाहजी सुगन आहूजा सुचिंता कुमारी सुधा गुप्ता अमृता सुधा गोयल नवीन सुधेंदु पटेल सुनीता काम्बोज सुनील जाधव सुभाष चंदर सुभाष चन्द्र कुशवाहा सुभाष नीरव सुभाष लखोटिया सुमन सुमन गौड़ सुरभि बेहेरा सुरेन्द्र चौधरी सुरेन्द्र वर्मा सुरेश चन्द्र सुरेश चन्द्र दास सुविचार सुशांत सुप्रिय सुशील कुमार शर्मा सुशील यादव सुशील शर्मा सुषमा गुप्ता सुषमा श्रीवास्तव सूरज प्रकाश सूर्य बाला सूर्यकांत मिश्रा सूर्यकुमार पांडेय सेल्फी सौमित्र सौरभ मालवीय स्नेहमयी चौधरी स्वच्छ भारत स्वतंत्रता दिवस स्वराज सेनानी हबीब तनवीर हरि भटनागर हरि हिमथाणी हरिकांत जेठवाणी हरिवंश राय बच्चन हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन हरिशंकर परसाई हरीश कुमार हरीश गोयल हरीश नवल हरीश भादानी हरीश सम्यक हरे प्रकाश उपाध्याय हाइकु हाइगा हास-परिहास हास्य हास्य-व्यंग्य हिंदी दिवस विशेष हुस्न तबस्सुम 'निहाँ' biography dohe hindi divas hindi sahitya indian art kavita review satire shatak tevari undefined
नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3790,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,326,ईबुक,182,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,257,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,105,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2744,कहानी,2067,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,484,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,129,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,30,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,87,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,22,पाठकीय,61,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,309,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,326,बाल कलम,23,बाल दिवस,3,बालकथा,48,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,8,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,16,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,224,लघुकथा,806,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,306,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,57,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1882,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,637,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,676,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,14,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,52,साहित्यिक गतिविधियाँ,181,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,51,हास्य-व्यंग्य,52,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: रवीन्द्र अग्निहोत्री का आलेख - अपराधी कौन? मैकाले या हम?
रवीन्द्र अग्निहोत्री का आलेख - अपराधी कौन? मैकाले या हम?
रचनाकार
http://www.rachanakar.org/2011/01/blog-post_7588.html
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2011/01/blog-post_7588.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय खोजें सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ