शनिवार, 5 फ़रवरी 2011

राजीव श्रीवास्तवा की कविता : अमर जवान ज्योति !

 

amar jawan jyoti

सदियों से खड़ा है खामोश, हज़ारों कहानियाँ समेटे हुए ,

थक चुका है लोगो को देश प्रेम का संदेश देते हुए ,

चीख-चीख के ये हमे शहीदों की याद दिलाता है,

उनके बलिदान और सरफरोशी के किस्से सुनता है !

 

इसमे छुपी हज़ारों लोगों की लाखों अनकही कहानी है ,

पर लागत है अब ये सब बेमतलब है ,बातें पुरानी है ,

ये वो शहीद है जो हँस के देश से रुखसत हो गये ,

चुप- चाप जान दे धरती माँ की गोद मे जा के सो गये !

 

कई लोग यहाँ रोज आते है और यूँ ही चले जाते हैं ,

बिरले ही कुछ लोग अपने शीश को नवाते हैं ,

कौन चंद पल खड़ा हो शहीदों को याद करता है ,

बस यहाँ खड़े होकर राजनीति की बात करता है !

 

इस पवित्र ज़मीन पर जहाँ श्रद्धा की गंगा बहती थी ,

लोगो के मन मे देश भक्ति की प्यास रहती थी ,

ये तो बस अब सैर सपाटे की जगह बन गयी ,

आज वास्तव मे शहीदों की अंतिम साँसे भी रुक गयी !

 

ये आज बेबस और परेशान सा दिखता है ,

क्योकि इसके ठीक सामने देश का ईमान बिकता है ,

यदा कदा ही यहाँ पुष्प भेंट ,और सलामी बजती है ,

और दिन तो यहाँ चना और मूँगफली ही बिकती है !

 

मत और अपमान करो,इसे और ना शर्मसार करो ,

यहाँ बस देश भक्ति की बात करो, इतना उपकार करो ,

वही यहाँ आए जिसके दिल मे धरती माँ बसती है ,

यही एक छोटे सी बात मेरी ये रचना कहती है---

मेरी ये रचना कहती है !

---

डॉक्टर राजीव श्रीवास्तवा

-

1 blogger-facebook:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------