शनिवार, 12 फ़रवरी 2011

एस के पाण्डेय की बाल कविता - पिंकी मौसी की बिल्ली

पिंकी मौसी की बिल्ली

DSCN4474 (Custom)

(१)

पिंकी मौसी बोलीं बिल्ली चलो बजार ।

बिल्ली बोली पहले पहनाओ तुम हार ।।

मौसी बोलीं हार नहीं घर के चूहे खा लेना ।

बिल्ली बोली दो पहले जो भी हो तुमको देना ।।

(२)

बिल्ली ने घर मैं जाकर चूहों को जब खा डाला ।

नानी बोलीं मौसी से तूने क्यों बिल्ली पाला ।।

नानी करतीं च्च च्च च्च खी खी खी करतीं खाला ।

उस कमरे में न जा पाई जिसमें था लटका ताला ।।

(३)

मौसी बोलीं नानी से बैठी रहती हो ले माला ।

देखो मेरी किताबों को चूहों ने कुतर डाला ।।

इनको सबक सिखाने हित मैंने है बिल्ली पाला ।

चाहो तो लटका लो तुम हर कमरे में अब ताला ।।

(४)

नानी कहती मौसी को इसने है घर को घाला ।

घर में पाप कराती है जबकि मैं जपती हूँ माला ।।

कब तक मैं लटकाऊँगी अपने कमरे में ताला ।

मामा कहते देखो बच्चों बिल्ली मौसी ने बिल्ली पाला ।।

------------

डॉ एस के पाण्डेय,

समशापुर (उ.प्र.) ।

URL: http://sites.google.com/site/skpvinyavali/

*********

2 blogger-facebook:

  1. मुझे यह कविता थोड़ी सी समझने में कठिन लगी, क्यूंकि यह बच्चों की कविता है तो इसको सरल होना चाहिए :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर.. मैं आपकी कविताओं को बच्चों को सिखाना चाहता हूँ.. आपकी अनुमति हो ...तो..

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

और दिलचस्प, मनोरंजक रचनाएँ पढ़ें-

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------