वेलेंटाइन डे विशेष : एस. के. पाण्डेय की हास्य - व्यंग्य कविता . . कुत्ते का प्यार

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

कुत्ते का प्यार

DSCN4677 (Custom)

     (१)

फैशन करके चली बिलार ।

लग गये पीछे कुत्ते चार ।।

कहते सब, हम तेरे यार ।

हमको हो गया तुमसे प्यार ।।

            (२)

लगती हो कितना सुंदर ।

जो भी देखे जाये मर ।।

आओ झूमें क्या है डर ।

भूलो बिल्ली अपना घर ।।

         (३)

गाँव और भी कई शहर ।

सभी जगह है मेरा घर ।।

तुमको करना नहीं फिकर ।

चलो चलूँ मैं वहीं जिधर ।।

         (४)

प्यार, मार का मुझको ज्ञान ।

फिल्म देखकर बने सुजान ।।

हर करतब की है पहचान ।

दे सकते हैं अपनी जान ।।

              (५)

मान लिया बिल्ली ने बात ।

कुत्ता तो मन में मुस्कात ।।

कुछ दिन बीते बिल्ली लाश ।

मिली आ रही जिसमें बास ।।

            (६)

कुत्तों पे करके विश्वास ।

बिल्ली का हुआ सत्यानाश ।।

जँह-तँह कुत्ते रहें पचास ।

बिल्ली के हित बड़े पिचास ।।

करके इनसे प्यार की आस ।

कितनों का हो चुका विनाश ।।

------------

डॉ एस के पाण्डेय,

समशापुर (उ.प्र.) ।

URL: http://sites.google.com/site/skpvinyavali/

*********

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

2 टिप्पणियाँ "वेलेंटाइन डे विशेष : एस. के. पाण्डेय की हास्य - व्यंग्य कविता . . कुत्ते का प्यार"

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.