सोमवार, 28 फ़रवरी 2011

मंजरी शुक्ल की कविता - जब तू याद आया

जब तू याद आया

कही सावन आया

मिली नज़रे तुझसे तो

गुलाल उड़ आया I

 

सतरंगी इन्द्रधनुष छाया

मन को यूँ भरमाया

रूई से बादलों में

जब तू नज़र आया I 

 

कलाई खनक उठी

मेहँदी इतराने लगी

बिंदिया जगमक चमकी

तब तू मुस्काया I

 

धानी चुनर उड़ चली

सांझ आँचल ओढ़ ली

चाँद थोड़ा शरमाया

मीत था मेरा आया

--

डॉ. मंजरी शुक्ल
श्री समीर शुक्ल
सेल्स ऑफिसर (एल.पी.जी.)
इंडियन ऑइल कॉरपोरेशन
गोरखपुर ट्रेडिंग कंपनी
गोलघर
गोरखपुर (उ.प्र.)
पिन - २७३००१

5 टिप्‍पणियां:

  1. कल्पना की अच्छी उड़ान .....लेखन जारी रखें ....मेरी शुभकामनाएं .

    उत्तर देंहटाएं
  2. धानी चुनरी उड़ चली ,
    सांझ आम्चल ओढ ली।

    सुन्दर और मासूम अभिव्यक्ति, बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सरल और स्पष्ट रचना

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.