रविवार, 13 फ़रवरी 2011

मनोज अग्रवाल की ग़ज़लें

DSCN4511 (Custom)

(1)

जुर्म आपका बेहद संगीन है हुजूर,

इसीलिए आप चैन से सोये हैं हुजूर।

 

इक कंकाल मरा है रियासत में आपकी,

फिर भी आपकी रात रंगीन है हुजूर।

 

वायदों की फसल लहलहा रही है देश में,

आपके चेहरे पर भी हरियाली छाई है हुजूर।

 

इक चोर को सब साहूकार लूट ले गये,

सब कुछ ठीक आपकी रहनुमाई में है हुजूर।

 

सिले हैं सब जुबान आंखें भी बंद हैं,

बहुत वफादार आपकी फौज है हुजूर।

 

इस अभागी जनता से जुड़े हुए हैं आप,

आपकी जर्रानवाजी का गजब नमूना है हुजूर।

---

(2)

कैसे नए-नए अर्थ ये बनाने लगे हैं,

कि नीम को मीठा बताने लगे हैँ।

 

जिंदगी की बातों को नारों में दबा,

गड़े मुर्दों को फिर से जिलाने लगे हैं।

 

अधर में महल बात धरती की कर,

ये लोगों को फिर फुसलाने लगे हैं।

 

जबानी जमा खर्च से काम कैसे चले,

बिना समझे ये नाटक दिखाने लगे हैं।

 

ग्यारह घोड़ों पे फिर भी कहें एक हैं,

बेढब गणित ये सबको सिखाने लगे हैं।

 

कैसे लोगों को ये सब स्वीकार हो,

लाश सिद्धांतों की जब ये जलाने लगे हैं।

-----

(3)

नेवले भी सर्प का करने लगे गुणगान है,

आज के युगधर्म की बस सही पहचान है।

 

मरूथलों में हरियाली का वे दावा करें,

अपनी हालत %यों गुलामों की कटी जुबान है।

 

हर तरफ सुख-शांति का झण्डा गड़ा रखे हैं वे,

और हालत ये कि वे खुद एक कब्रिस्तान हैं।

 

खुद बने हैं आप आका मुफलियों के,

हर तरफ बिखरे हुए बस अखबारी बयान हैं।

---

(4)

जब से जिंदगी के सूरजमुखी उसूल हो गए,

हमको जीने के सभी रास्ते कुबूल हो गए।

 

स्वार्थ के तराजू में तौला जबसे जीवन,

हुक्काम तो क्या अर्दली भी जी-हुजूर हो गए।

 

परजीवी बनकर फैलाए जब स्वार्थ-पाश,

तिरस्कृत सब शिखंडी बेहद करीब हो गए।

 

कौवे की जाति से नाता जब जोड़ लिया,

कोयल की भाषा से बहुत दूर हो गए।

---

मनोज अग्रवाल

मुंगेली,जिला-बिलासपुर

छत्तीसगढ़

1 blogger-facebook:

  1. स्वार्थ के तराजू में तौला जबसे जीवन,
    हुक्काम तो क्या अर्दली भी जी-हुजूर हो गए।

    अच्छा प्रयास। बेहतर।

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------