गुरुवार, 3 फ़रवरी 2011

दामोदर लाल जांगिड़ की कविता - तराशा हुआ पत्थर

तराशा हुआ पत्‍थर

tarasha hua bhagwaan

तुझे कितने परिश्रम से तराशा था अरे पत्‍थर।

बड़ी उम्‍मीद थी आखिर बना दूंगा तुझे ईश्‍वर ॥

रहा पत्‍थर तू पत्‍थर अहा! किससे पड़ा पाला,

किसी शिल्‍पी के सपनों का तो शैशव ही कुचल डाला।

 

गड़ा हैं सरहदों पर जो अरे वो भी तो पत्‍थर हैं।

मिटाता हैं विवादों को तुम्‍हारे से तो बेहतर हैं।

मगर तू हैं जो बनता हैं फसादों का सबब आला।

किसी शिल्‍पी के सपनों का तो शैशव ही कुचल डाला।

 

लगा हैं भोग का चस्‍का सुबहो औ शाम ले लेता।

फ़क़त कुछ आंसुओं के और तू कुछ भी नहीं देता॥

दिलासा दे के हर याचक को खाली हाथ ही टाला।

किसी शिल्‍पी के सपनों का तो शैशव ही कुचल डाला।

 

तुम्‍हें अभिशाप देता हूँ कहीं तू काम ना आये।

नदी के धाट का या मील का पत्‍थर न बन पाये।

किसी प्राचीर में लग कर बनेगा तू न रखवाला।

किसी शिल्‍पी के सपनों का तो शैशव ही कुचल डाला।

--

दामोदर लाल जांगिड़

3 blogger-facebook:

  1. इस कविता को तो विशेष तौर पर लखनऊ भेजना चाहिए, काफी मार्मिक बात कह दी|

    उत्तर देंहटाएं
  2. EK PATTHAR JISAKO ME SAZADA KAROON,
    EK PATTHAR JISAKO BOLOON KYON ARE PATTHAR 1

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------