वेलेन्टाइन डे विशेष : बृजेन्द्र श्रीवास्तव "उत्कर्ष" की कविताएँ

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

पहली नजर का पहला प्यार

UTKARSH (Custom)

कोयल कूके डाली-डाली, मधुवन में गुंजार हुआ |
मन के कोरे कागज पर फिर, एक नया श्रृंगार हुआ |


नजरों से जब नजर मिली तो, दिल गुल से गुलजार हुआ |
जबसे हमको पहली नजर का, पहला-पहला प्यार हुआ ||


दीवानों सा स्वप्न संजोएँ, खोया-खोया रहता हूँ |
एक उनकी चाहत में हरदम, भोया-भोया रहता हूँ |


देख चाँद मेरा-मुझको तो, एक नया खुमार हुआ |
जबसे हमको पहली नजर का, पहला-पहला प्यार हुआ ||


पास मेरे जब रहते है वो, दिल खिल-खिल सा जाता है |
साँझ तले कुमुदिनी में कोई, भौंरा मिल सा जाता है |


मिलन और बिछुड़न में दीवाना, ये दिल बेक़रार हुआ |
जबसे हमको पहली नजर का, पहला-पहला प्यार हुआ ||

****************************

प्रेम

दिल किसी का न टूटे दुआ कीजिये,
बनके राधा के मोहन रहा कीजिये /


प्रेम की बांसुरी गर बजाये कोई,
प्रेमधुन में उसी के रमा कीजिये //


प्रेम अनमोल है इसकी कीमत नहीं,
धर्म और धन में इसको तो मत तौलिये /


जिन्दगी चार दिन की जियो प्रेम से,
नफरतों का जहर तो है मत घोलिये //


प्रेम तो है इबादत उस ईश की,
प्रेम रस में हमेशा गमन कीजिये /


तुमको मिल जाये कोई दीवाना कभी,
उसकी दीवानगी को नमन कीजिये //


इस धरा पर है चहुं ओर संकट बहुत,
प्रेम के हर सुमन से चमन कीजिये /


मिलन हो जाये सबका जरुरी नहीं,
दूर ही दूर से प्रेम है कीजिये //

----

बृजेन्द्र श्रीवास्तव "उत्कर्ष"
206, टाइप-2,
आई.आई.टी.,कानपुर-208016, भारत
Brajendra  Srivastava “Utkarsh”
206, Type-2
IIT Kanpur-208016, INDIA

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "वेलेन्टाइन डे विशेष : बृजेन्द्र श्रीवास्तव "उत्कर्ष" की कविताएँ"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.